Sunday, 21 May 2017

तुम्हारे साथ जिनसे मुझे प्यार हो गया...!!!

चलो इक बार फिर,
तुम मुझे कॉफी पर बुलाओ,
और हमेशा की ना करते हुए हाँ कर दूँ....
तुम्हारा कॉफी पर बुलाना,
इक बहाना था,
गुजरे पलो को दोहराना होता है...
तुम वही शर्ट पहन कर आओ,
जिसे कभी मैंने कहा था,
कि तुम पर अच्छी लगती है...
मैं वही रंग पहन कर आऊं,
जो तुमको बहुत पसंद था..
हम इस तरह इक-दूसरे को,
देख कर मुस्करा दिए,कि
याद तो अभी भी हमें सब कुछ है....
ना जाने क्यों तुम्हारे साथ जब भी होती हूँ,
सालो बाद भी कैपिचीनो कॉफ़ी का,
स्वाद वही होता है...
वही मिठास तुम्हारी बातो की लगती है,
और थोड़ी सख्त तुम्हारे अंदाज़ जैसी होती है...
पर इक बात मुझे आज तक,
समझ नही आई...
वैसे फोन पर तो तुमसे बहुत बाते करती हूँ,
पर जब तुम सामने होते हो,
जाने क्यों कुछ सूझता ही नही..
जैसे ही नजरो से नजरे मिल जाती,
धड़कने बढ़ जाती और,
मैं सब कुछ भूल जाती हूँ...
और तुम मुझे चिढ़ाते हुऐ कहते हो,
अब बताओ तुम्हे कितनी बाते करनी है.....
मैं सिर्फ मुस्करा कर रह जाती हूँ,
कैसे कहूँ तुम्हारा मेरे सामने होना ही,
सारी बातों का मतलब होता है....
सच कहूं तो ये कॉफी मुझे नही पसंद...
बस तुम्हारे साथ ही कॉफी पीती हूँ...
यही वो लम्हे है...
तुम्हारे साथ जिनसे मुझे प्यार हो गया...!!!

No comments:

Post a Comment