Wednesday, 4 January 2017

आज तक सफर में हूँ...!!!

इक नदी जब चलती है,
तो सागर में गिरेगी यही,
उसकी नियति होती है,
सागर ही उसकी मंजिल होती है...
यही पढ़ती आयी थी,देखती आयी हूँ...
मुझे मंजिल नही मिली....क्यों कि,
मैं चली तो नदी की तरह ही थी,
पर सागर में मैं गिरी नही,
सागर के साथ चलना तय किया....
कि आज तक सफर में हूँ...!!!

No comments:

Post a Comment