Monday, 10 August 2015

नही सुलझा पायी....!!!

नही सुलझा पायी,
उन उलझनों को जिसमे..
तुम उलझा कर गये थे...
बंध सी गयी उन उलझनों में,
नही खोल पायी,
कोई गिरह...
ना ही मिला मुझे कोई सिरा...
उलझ कर गयी हूँ...
तुम्हारी बातो में,अहसासों में,
तुम्हारे वादों में...
नही समझ पा रही हूँ,कि
झूठ क्या था,तुम्हारा प्यार...
या तुम्हारी बाते या तुम्हारे वादे...
क्या सिर्फ छलावा था,
जो तुम्हारी आखो में देखा था,
या सिर्फ मेरा भ्रम था,
जो मेरे दिल ने..
महसूस किया था....
ग़र मान लूँ की...
सब झूठ था..भ्रम था...
तो भी तुम्हारी तरह,
मैं भी झूठी थी...
जो तुम्हारी झूठी आँखों को,
ना पढ़ सकी...
उलझन में हूँ...
कि ग़र गलत तुम्हे कहूँ...
तो गलत मैं भी हूँ..
कि गलत को चुना है मैंने....!!!

8 comments:

  1. बहुत सुंदर कविता |

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर कविता |

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 13-08-2015 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2066 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 14 अगस्त 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर कविता |
    बहुत अद्भुत अहसास...सुन्दर प्रस्तुति .पोस्ट दिल को छू गयी.......

    ReplyDelete