Saturday, 25 October 2014

इक ऐसा राज बताती हूँ.......!!!

चलो आज मैं तुम्हे...                                 
इक बात बताती हूँ....
जो तुम कभी जान नही पाये...
इक ऐसा राज बताती हूँ.......
तुम्हे मैं जैसी पसंद हूँ....
वैसी तो मैं हूँ ही नही....

तुम्हे पता है...
तुम्हारे साथ को मैंने ऐसा जीया..
खुद में तुमको जीने लगी.....
तुम्हे एहसास भी नही होने दिया...
और कब तुम्हारी पसंद मेरी हो गयी...
तुम्हे पता है...?
मुझे काफ़ी बिल्कुल भी नही पसंद थी...
पर तुम्हे जानना था समझना था..
कुछ लम्हे गुजारने थे तुम्हारे साथ...
ना जाने कब तुम्हे समझते-समझते....
मेरी जुबा को काफी का स्वाद भा गया....

चलो आज मैं तुम्हे इक बात बताती हूँ....
जो तुम कभी जान नही पाये...
इक ऐसा राज बताती हूँ.......
तुम्हे मैं जैसी पसंद हूँ वैसी तो मैं हूँ ही नही....

तुमको जो मैं फुलझड़ी सी लगती हूँ...
हमेशा हँसती खिलखिलाती सी दिखती हूँ....
मैं ऐसी बिल्कुल नही हूँ....
मेरे एहसासों की गहराइयों से,
मेरी उदास गहराई तन्हाई से...
तुम अपरचित ही रहे...
तुम्हारे चेहेरे पर मुस्कराहट,
देखने की मेरी जिद ने..
तुम्हारे साथ ने....
मुझे मेरे बचपन से मिला दिया...

तुमसे तुम्हारी जैसी दिखते=दिखते....
मेरी खुद से मुलाकात हो गयी...
खुद को कही खुद में छिपा दिया था....मैंने
मुझे जो तुम मिले....
यूँ लगा कि हाथ पकड़ कर......
मुझे खुद से मिला दिया तुमने...

चलो आज मैं तुम्हे इक बात बताती हूँ....
जो तुम कभी जान नही पाये...
इक ऐसा राज बताती हूँ.......
तुम्हे मैं जैसी पसंद हूँ वैसी तो मैं हूँ ही नही....!!!

12 comments:

  1. बहुत ही उम्दा ...... nice form for express feeling

    ReplyDelete
  2. खुद से नील जाना ही बड़ी बात है ...
    बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  3. वाह ...बेहतरीन

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (27-10-2014) को "देश जश्न में डूबा हुआ" (चर्चा मंच-1779) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  5. कुछ बातें लगती हैं पर सच में होती नहीं हैं .

    ReplyDelete
  6. Prem to yahi hai..umda prastuti... Lajawaab rachna!!

    ReplyDelete
  7. रूह की गहराइयों से निकले बहुत सुन्दर अहसास... आभार शुषमा जी

    Recent Post कुछ रिश्ते अनाम होते है:) होते

    ReplyDelete
  8. बहुत सही
    सच्चा प्रेम में स्वयं का दर्शन होता है

    ReplyDelete
  9. एक बात करती कविता----
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  10. मुझे आपका blog बहुत अच्छा लगा। मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। मुझे लगता है कि आपको इस website को देखना चाहिए। यदि आपको यह website पसंद आये तो अपने blog पर इसे Link करें। क्योंकि यह जनकल्याण के लिए हैं।
    Health World in Hindi

    ReplyDelete