Monday, 20 October 2014

कुछ बिखरी पंखुड़ियां.....!!! भाग-11

88.
बहुत ढूंढने पर भी खुशी अब नही मिलती...
मेलो की दुकानों में....ढूंढा बहुत है... 
मैंने बच्चो के खिलौनो मे...बड़ो के सामानों में.
 89.
कभी-कभी बाते कर लेने से...बाते सुलझ जाती है.… 
90.
मेरे साथ बीते उन खुबसूरत लम्हों को... 
जो तुमने इबादत का नाम दिया है...
मैंने तुम्हारे सजदे में सर झुका दिया है..
91.
कुछ नही है आज....
लिखने को मेरे पास....
तुम कुछ कहो....तो वही लिख दूँ मैं..
92.
कोई मुझे लिखते हुए देखना चाहता है...
कोई मुझे देखते हुए... 
लिखना चाहता है....
किसकी शिद्दत पर...
मैं एतबार करू... 
बहुत उलझन में हूँ....किसे प्यार करू..
93.
फिर कोई खुबसूरत सी बात हो जाये....
मैं तुम्हे याद करू...और बरसात हो जाये..
 94.
मेरा नाम 'आहुति' जब-जब लिया जायेगा....
यक़ीनन तुम्हे भी याद किया जायेगा....
95.
चाहती हूँ मैं कि अपनी हर नज़म.. 
हर पंक्ति तुम्हारे नाम लिख दूँ...
चाहती तो मैं ये भी हूँ कि जब जिक्र प्यार का हो तो....
प्यार मिटा कर तुम्हारा नाम लिख दूँ...
96.
हमे हर रोज इन हवाओं में भी...
तुम्हारी खुसबू का एहसास मिला है....
और तुम कहते हो....
कि हमे मिले हुए अरसा गुजर गया है....
            

10 comments:

  1. Bahut khubsurat abhivyakti manbhawan .... :)

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना बुधवार 22 अक्टूबर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवार के - चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब .... कई लम्हों को जोड़ कर लिखी पोस्ट ...
    मज़ा आया ...
    आपको दीपावली की हार्दिक बधाई ...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी है और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - बुधवार- 22/10/2014 को
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः 39
    पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें,

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी है और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - बुधवार- 22/10/2014 को
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः 39
    पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें,

    ReplyDelete
  7. अनुपम प्रस्तुति....आपको और समस्त ब्लॉगर मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@बड़ी मुश्किल है बोलो क्या बताएं

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर
    प्रेम की खुशबू बिखेरती हर एक पंखुड़ी !

    ReplyDelete
  9. चाहती तो मैं ये भी हूँ कि जब जिक्र प्यार का हो तो....
    प्यार मिटा कर तुम्हारा नाम लिख दूँ...
    सब तो कह दिया इसके बाद कुछ कहने को है तो----- बधाई
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete