Friday, 7 February 2014

Valentine special.....आँखों से दिल में उतरना सीख लिया है...

किताबे पढ़ते- पढ़ते न जाने कब 
आँखों को पढ़ना सीख 
 लिया है ...!

किसी ने लबो से कुछ न कह कर 
आँखों से सब कुछ कहना सीख लिया है ..!                
हमने भी किसी कि आँखों से 
दिल में उतरना  सीख लिया है....! 

अब इजहार सारे आँखों के 
इशारो से होने लगे है... 
दूर थे अभी तक जो हमसे.. 
करीब दिल के आने लगे है.....!

किसी कि अनकही बातो को 
लफ्ज़ दे रहे है हम .......!
किसी कि ख़ामोशी भी हम 
समझने  लगे है..... 
फिर धड़कने हों गयी है तेज 
दिन प्यार के चलने लगे है ...!

10 comments:

  1. प्यार अक्सर आँखों से ही बयां हो जाती है ....
    सुन्दर पंक्तियाँ ...

    ReplyDelete
  2. किताबे पढ़ते- पढ़ते न जाने कब
    आँखों को पढ़ना सीख
    लिया है ...! wah,kya baat hai......

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर रचना सुषमा जी

    ReplyDelete
  4. क्या बात है...

    ReplyDelete