Saturday, 1 February 2014

Valentine special..दिन प्यार के चलने लगे है...!

धड़कने हो गयी है तेज,                      
दिन प्यार के चलने लगे है... 
फिर से बरसो पुराने ख़त, 
सूखे गुलाब....
डायरी में कही मिलने लगे है...! 
हवाओ का रुख भी,
बदलने लगा है.... 
जब से मुहब्बतो के,
पत्ते उड़ने लगे है....
खूबसूरत ख्यालो से,
साँसे महकने लगी है.....
हर आहट पर..
दिल धड़कने लगे  है.... 
धड़कने हो गयी है तेज 
दिन प्यार के चलने लगे है.......!!!

7 comments:

  1. काफी उम्दा प्रस्तुति.....
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (02-02-2014) को "अब छोड़ो भी.....रविवारीय चर्चा मंच....चर्चा अंक:1511" पर भी रहेगी...!!!
    - मिश्रा राहुल

    ReplyDelete
  2. प्यार, इश्क, मोहब्बत और कुछ भी नहीं .।.......

    ReplyDelete
  3. वाह ... अनुपम भाव संयोजन
    बहुत खूब

    ReplyDelete
  4. सुन्दर सांगीतिक प्रस्तुति अर्थ पूर्ण व्यंजना लिए।

    ReplyDelete
  5. स्वागत है प्रेम रुत का |

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर रचना....
    मनभावन
    :-)

    ReplyDelete