Tuesday, 5 November 2013

कुछ बिखरी पंखुड़ियां.....!!! भाग-3

                      15.                                   

कितनी ही दूरियाँ क्यों न हो जाए...
हालत कितने ही क्यों न बदल जाए...
कितना वक़्त क्यों न कम पड़ जाए...
पर फिर भी,कुछ है जो.....
हमें एक दुसरे से जोड़े रखता है...!!!
                        16.
जिन्दगी का तो पता नही.....
पर तुम्हारे बिन जिन्दगी का इक,
लम्हा भी गुजरता नही.......!
                        17.
हर सांस के साथ तुम्हे महसूस करती हूँ मैं 
तुम्हे भूल गयी हूँ ये सच है कि ये 
झूठ मैं बार बोलती हूँ.… !!
                         18.
तुम्हारे साथ बीते पल,
तुम्हारी बातो में गुजरी राते, 
सब झूठ ही था तुम्हारे लिए 
फिर भी कितनी सच्चाई से,
 इस झूठ को जिया है मैंने....!!!
                         19.
कितने अनकहे अनसुलझे एहसासों के साथ,
तुमसे बंधी रही हूँ मैं..... 
साल-दर-साल तुम्हे चाहती रही हूँ मैं.....!!!
                         20.
इस बदलते वक़्त के साथ....
तुम तो बदलते चले गए.......पर मेरा क्या...????
न मैं बदली.....न ही मेरे लिए वक़्त बदला...........  
                          21.
समझना तो यही है.....वो कितना समझते है.....
पर क्या करे? प्यार तो उनकी नासमझी पर भी आता है......!!!

15 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (06-11-2013) मंगल मंगल लाल, लाल हनुमान लंगोटा : चर्चा मंच 1421 में "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  3. इस पोस्ट की चर्चा, बृहस्पतिवार, दिनांक :- 07/11/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक - 40 पर.
    आप भी पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
  4. प्रेम में पगे लम्हे ... गहरा एहसास लिए हर पल ...

    ReplyDelete
  5. सुंदर शब्दो से सजी पंखुड़ियाँ !!

    ReplyDelete
  6. यही तो सच्चे प्यार की निशानी है...

    ReplyDelete
  7. कल 07/11/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर अभिव्यक्तियाँ |
    नई पोस्ट फूलों की रंगोली
    नई पोस्ट आओ हम दीवाली मनाएं!

    ReplyDelete
  9. वाह .... बेहतरीन अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete
  10. खुबसूरत रचना

    ReplyDelete
  11. जो भूला दिया वो प्यार नहीं
    खूबसूरत अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन रचना...

    ReplyDelete