Tuesday, 27 August 2013

हे कृष्ण.....मैं तो सिर्फ तुमसे प्रेम करती थी.......!!!

हे कृष्ण.....                                                      
             
नही बनना चाहती थी मैं,
कोई मिशाल.......
मैं तो सिर्फ तुमसे प्रेम करती थी.......

हे कृष्ण.....
नही चाहती थी मैं....
असाधारण सी ख्याति,
मैं तो सिर्फ साधारण सा जीवन,
तुम्हारे साथ जीना चाहती थी......
मैं तो सिर्फ तुमसे प्रेम करती थी.......

हे कृष्ण.....
नही चाहती थी....
किसी मंदिर की मूरत बनना, 
मैं तो सिर्फ...
तुम्हारे दिल में रहना चाहती थी.... 
मैं तो सिर्फ तुमसे प्रेम करती थी......

हे कृष्ण.....
नही ही चाहती थी मैं.…कि
हर घर में पूजी जाऊं,
मैं तो सिर्फ....
तुम्हे पूजना चाहती थी....
मैं तो सिर्फ तुमसे प्रेम करती थी......

32 comments:

  1. हे कृष्ण.....
    नही ही चाहती थी मैं.…कि
    हर घर में पूजी जाऊं,
    मैं तो सिर्फ....
    तुम्हे पूजना चाहती थी....
    मैं तो सिर्फ तुमसे प्रेम करती थी.
    प्रभावशाली प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  2. आपकी यह रचना कल बुधवार (28-08-2013) को ब्लॉग प्रसारण : 99 पर लिंक की गई है कृपया पधारें.
    सादर
    सरिता भाटिया

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर.. कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. aapne अनन्य प्रेम ,विशुध्ह प्रेम का का सुंदर चित्रण किया हैं |

    ReplyDelete
  5. सच्चा प्रेम कुछ नहीं चाहता सिवाय निकटता के
    सुन्दर

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - बुधवार- 28/08/2013 को
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः7 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - बुधवार- 28/08/2013 को
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः7 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra

    ReplyDelete
  8. हर शब्द कृष्णमय...जय श्री राधे कृष्ण

    ReplyDelete
  9. हे कृष्ण.....
    नही ही चाहती थी मैं.…कि
    हर घर में पूजी जाऊं,
    मैं तो सिर्फ....
    तुम्हे पूजना चाहती थी....
    आदरणीया सुषमा जी बहुत सुन्दर भाव ..भगवान् के भक्त भी तो पूजे जाने लगते ही हैं ..
    आप सभी मित्र मण्डली को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें ...जय श्री कृष्णा
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर सहज भावों की अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से आप सभी को श्री कृष्णजन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनाएँ !
    ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन कृष्ण जन्म सबकी अंतरात्मा में हो मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete



  12. ♥ जयश्री कृष्ण ! ♥
    _/\_

    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बधाइयां और शुभकामनाएं !
    ✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿

    ReplyDelete
  13. सुन्दर रचना.....सुन्दर भाव..............

    ReplyDelete
  14. prem ke sath puja ka maan bhi sahaj mil jaata hai !
    sundar rachana , aabhar ke sath !

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर .जन्माष्टमी की शुभकामनाएँ
    latest postएक बार फिर आ जाओ कृष्ण।

    ReplyDelete
  16. आपको कृष्ण जन्माष्टमी की बहुत बहुत शुभकामनायें

    ReplyDelete
  17. बहुत ही बेहतरीन रचना....
    कृष्णा जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ....
    :-)

    ReplyDelete
  18. सुन्दर ....! वाकई कितना अखरता होगा राधा को कृष्ण को बांटना ....

    ReplyDelete
  19. जी कृष्ण के प्रेम में खो गया ... फिर उसकी सुध वो ही लेते हैं ...

    ReplyDelete
  20. बहुत ही सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  21. bahut sundar likha hai apne .....prem me aisi urja hoti hai ya to nam kr deti hai ya badnam kr deti hai .....prem hone ke uprant to ye sb hota hi hai chahe chahen ya na chaahen ....prem eeshwar ki nakatata hi deti hai .

    ReplyDelete
  22. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  23. nice one ,mere bhi blog me padhare

    ReplyDelete
  24. Behatarin Kavita Sushmaji...Khudkismati se main aapke blog par aa pahuncha..sari kavitayen aur gazals kamal ke hain. Many congratulations for fabulous work!!!

    ReplyDelete