Tuesday, 2 July 2013

तुम तक ही पहुँच जाती हूँ मैं.....!!1

हर बार खुद को ढूंढ़ कर....                  
खुद से मिलाती हूँ मैं.....
तुम मिले थे....

कभी जिन राहो में...
फिर उन्ही राहो पर कही रुक ना जाऊं....
उन राहो से तुम्हारे निशानों को,
मिटाती हूँ मैं....
तुम अब फिर न मिलोगे कभी.....
साथ न दोगे कभी...
तुम अब कही नही हो....
हर बार ये सच...
खुद को बताती हूँ मैं.....समझाती हूँ मैं.....
जब कभी कोई ख्वाब सजाती हूँ मैं....
खुद को ही नही उसमे पाती हूँ मैं....
कितना भी ले आऊं खुद को......तुमसे दूर...
हर बार खुद से ही हार जाती हूँ मैं....
चलती हूँ....किसी भी राह...
तुम तक ही पहुँच जाती हूँ मैं.....

28 comments:

  1. एक प्यारा सा अहसास...

    ReplyDelete

  2. मन को छूती हुई सुंदर अनुभूति
    बेहतरीन रचना
    बधाई

    जीवन बचा हुआ है अभी---------

    ReplyDelete
  3. कितना भी ले आऊं खुद को......तुमसे दूर...
    हर बार खुद से ही हार जाती हूँ मैं....
    चलती हूँ....किसी भी राह...
    तुम तक ही पहुँच जाती हूँ मैं.....
    very nice

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बुधवार (03-07-2013) को बुधवारीय चर्चा --- १२९५ ....... जीवन के भिन्न भिन्न रूप ..... तुझ पर ही वारेंगे हम ....में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  5. कोमल भावों से सजी रचना ....बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  6. प्रेम में हर राह उसी तक ले जाती है..जैसे सभी प्रणाम गोविन्द तक पहुंच जाते हैं...

    ReplyDelete
  7. क्या बात है आदरेया-
    आपका आभार-

    ReplyDelete
  8. खुद को ही नही उसमे पाती हूँ मैं....
    कितना भी ले आऊं खुद को......तुमसे दूर...
    हर बार खुद से ही हार जाती हूँ मैं....
    चलती हूँ....किसी भी राह...
    तुम तक ही पहुँच जाती हूँ मैं...
    वाह.सुन्दर प्रभावशाली ,भावपूर्ण ,बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर रचना,
    बहुत सुंदर


    TV स्टेशन ब्लाग पर देखें .. जलसमाधि दे दो ऐसे मुख्यमंत्री को
    http://tvstationlive.blogspot.in/

    ReplyDelete
  10. चलती हूँ....किसी भी राह...
    तुम तक ही पहुँच जाती हूँ मैं...

    ....बहुत सुन्दर कोमल अहसास...

    ReplyDelete
  11. हमेशा की तरह बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  12. प्रेम ऐसा ही होता है . बहुत खूबसूरत भावमयी रचना ..बधाई

    मन के अनकहे भावो को इस रचना में बहा दिया ..आपकी प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा में मेरी नयी रचना  Os ki boond: मन की बात ...

    ReplyDelete
  13. चाह क्या नहीं कर सकती ..

    ReplyDelete
  14. जब कभी कोई ख्वाब सजाती हूँ मैं....
    खुद को ही नही उसमे पाती हूँ मैं....
    कितना भी ले आऊं खुद को......तुमसे दूर...
    हर बार खुद से ही हार जाती हूँ मैं....
    चलती हूँ....किसी भी राह...
    तुम तक ही पहुँच जाती हूँ मैं.

    गजब की कसक देती एहसास

    ReplyDelete
  15. भावभिनी रचना के लिये बधाई

    ReplyDelete
  16. कोमल अहसासयूक्त रचना..
    भावपूर्ण...

    ReplyDelete
  17. बहुत ही बढ़िया


    सादर

    ReplyDelete
  18. bahut pyari rachna...har rah ki manzil to tum ho....

    ReplyDelete
  19. वाह, सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  20. Bahut sundar, gehan evam samvedna liye rachna.

    -Shaifali

    http://guptashaifali.blogspot.com

    ReplyDelete
  21. मोहब्बत के दौर से गुजरने वालों की वास्तविकता है ये।
    अच्छे अल्फाज़

    ReplyDelete
  22. ehasaason ki paavan anubhooti hai tumhari yaaden.

    uttam v bhavpoorn.

    ReplyDelete
  23. कोमल भावों से सजी रचना ....बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  24. कोमल भावों से सजी रचना ....बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  25. Nostalgia .... it never ends !!!
    nice one.....

    ReplyDelete