Friday, 28 June 2013

कुछ कहती है बुँदे.......!!!

मुझ को भिगोती है बुँदे......        
तुम्हारा प्यार बन कर......
मुझे छूती बुँदे.....
तुम्हारा एहसास बन कर....
कुछ कहती है बुँदे.....
तुम्हारी आवाज़ बन कर.....
मुझ पर ठहरती है बुँदे....
तुम्हारी नजर बन कर.....
मुझे थामती है ये बुँदे....
तुम्हारी बाहें बन कर....
मेरे होटों पर बिखर जाती है बुँदे....
तुम्हारी कविता बन कर....
हर कोई अनजान है इनसे.....
मेरे आंसुओं में घुल जाती है बुँदे.....
बहुत रुलाती है बुँदे......
तुम्हारी याद बन कर.....

42 comments:

  1. सुंदर अभिव्यक्ति ....शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  2. सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  3. सुंदर

    ReplyDelete
  4. bahut kuchh kah kar bhigoti hain ye boonden.
    behtreen prastuti.

    ReplyDelete
  5. जिस मूड में हो ...वो मूड बडाती बुँदे.....
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  6. bahut sundar kavita..

    bahot badhaai

    ReplyDelete
  7. अति सुंदर

    ReplyDelete
  8. बूँद बूँद प्रेम. सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  9. बहुत रुलाती हैं बूँदें
    तुम्हारी याद बनकर ..
    सुन्दर अभिवयक्ति !

    ReplyDelete
  10. बहुत रुलाती हैं बूंदें
    तुम्हारी याद बनकर ..
    सुन्दर शब्द !

    ReplyDelete
  11. बहुत खूबसूरत रचना...शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  12. वाह, बहुत खूब

    ReplyDelete
  13. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (30-06-2013) के चर्चा मंच 1292 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  14. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 30/06/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. अति सुन्दर भावोँ की अभिव्यक्ति। वर्षा की बूँदोँ और प्रेम का अद्भुत समन्वय । बधाई । सस्नेह

    ReplyDelete
  16. अति सुन्दर भावोँ की अभिव्यक्ति। वर्षा की बूँदोँ और प्रेम का अद्भुत समन्वय । बधाई । सस्नेह

    ReplyDelete
  17. हर रंग को आपने बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों में पिरोया है, बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  18. behad khoobsurat khyal.. bahut kuchh kah jati hai barish ki ye bundy

    ReplyDelete
  19. सुंदर अभिव्यक्ति %%%%% शुभकामनायें @@@@@

    ReplyDelete
  20. बहुत रुलाती है बुँदे......
    तुम्हारी याद बन कर.....

    बहुत खूबसूरत रचना.

    शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  21. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती आभार ।

    ReplyDelete
  22. सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती

    ReplyDelete
  23. बहुत भावमयी प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  26. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती आभार ।

    ReplyDelete
  27. मेरे आंसुओं में घुल जाती है बुँदे.....
    बहुत रुलाती है बुँदे......
    तुम्हारी याद बन कर.....
    बुँदों और प्रेम का सम्बन्ध शरीर और आत्मा के जैसा होता है ,क्योंकि ये दोनों साफ एवं निष्छल होते हैं !आपने अपनी इस रचना में इसका सुन्दर चित्रण किया है आपको हार्दिक बधाई !
    chitranshsoul.blogspot.com

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर प्रस्तुति,यहाँ भी पधारे

    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/04/blog-post.html

    ReplyDelete
  29. बहुत सुंदर रचना
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  30. बूँदें

    मुझको भिगोती है
    प्यार बनकर
    छूती हैं
    एहसास बनकर
    कुछ कहती हैं
    तुम्हारी आवाज़ बनकर
    मुझ पर ठहरती हैं
    तुम्हारी नजर बनकर
    थामती है
    तुम्हारी बाहें बनकर
    मेरे होटों पर बिखर जाती है
    तुम्हारी कविता बनकर
    हर कोई अनजान है इनसे
    मेरे आंसुओं में घुल जाती हैं
    बहुत रुलाती है
    तुम्हारी याद बनकर
    ...मैने ऐसे पढ़ा। कोमल एहसास से आनंदित हुआ।

    ReplyDelete
  31. sundar rachna

    meri nayi post par aapka swaagat hai...

    http://raaz-o-niyaaz.blogspot.com/2013/07/blog-post.html

    ReplyDelete
  32. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete