Tuesday, 16 April 2013

मैं टूटना नही चाहती थी......!!!


मैं टूटना नही चाहती थी......                                                
मैं गिर कर सम्हालना चाहती थी..
चाहे जैसी हो चलना चाहती थी
सिर्फ मैं टूटना नही चाहती थी....

मैं रिश्तों मे बंधना चाहती थी...
मैं बिखर कर सिमटना चाहती थी....
सिर्फ मैं टूटना नही चाहती थी....

मैं  लड़ना चाहती थी...
जीतना चाहती थी...
हारना चाहती थी....
सिर्फ मैं टूटना नही चाहती थी....

मैं  एहसासों  छुना चाहती थी....
सपनो को जीना चाहती थी...
सिर्फ मैं टूटना नही चाहती थी....

मैं शब्दों को गढ़ना चाहती थी....
लम्हों को पिरोना चाहती थी....
बन कर हवा तुम्हे छु कर गुजरना चाहती थी....
तुम्हारे साथ मैं हद से गुजरना चाहती थी.....
सिर्फ मैं टूटना नही चाहती थी....!!!



29 comments:

  1. मैं शब्दों को गढ़ना चाहती थी....
    लम्हों को पिरोना चाहती थी....
    बन कर हवा तुम्हे छु कर गुजरना चाहती थी....
    तुम्हारे साथ मैं हद से गुजरना चाहती थी.....
    सिर्फ मैं टूटना नही चाहती थी..

    बहुत छोटी सी प्यार भरी गुजारिश .... जब प्रेम में हद से गुजरने की तैयारी है तो तूने से डर कैसा ..

    ReplyDelete
  2. जहां चाह वहाँ राह .... सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  3. टूटना न चाहना ही काफी नहीं था
    जुड़े रहने का शऊर सीख लेना था...

    भाव भरी सुंदर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  4. कब यहाँ किसने टूटना चाहा है.......वक़्त के थपेड़े हर शै से गुज़रते है......टूटकर कर फिर जुड़ते है ।

    ReplyDelete
  5. मैं शब्दों को गढ़ना चाहती थी....
    लम्हों को पिरोना चाहती थी....
    बन कर हवा तुम्हे छु कर गुजरना चाहती थी....नाजुक एहसास

    ReplyDelete
  6. वाह बहुत खूब .

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
  8. कौन चाहता है टूटना....
    बहुत सुन्दर रचना...
    अनु

    ReplyDelete

  9. मैं एहसासों छुना चाहती थी....
    सपनो को जीना चाहती थी...
    सिर्फ मैं टूटना नही चाहती थी...--
    प्रेम की गहन अनुभूति
    सुंदर रचना
    बधाई

    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों

    ReplyDelete
  10. मैं शब्दों को गढ़ना चाहती थी....
    लम्हों को पिरोना चाहती थी....

    वाह !!!बहुत बेहतरीन रचना,आभार,
    RECENT POST : क्यूँ चुप हो कुछ बोलो श्वेता.

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (17-04-2013) के "साहित्य दर्पण " (चर्चा मंच-1210) पर भी होगी! आपके अनमोल विचार दीजिये , मंच पर आपकी प्रतीक्षा है .
    सूचनार्थ...सादर!

    ReplyDelete
  12. मैं टूटना नही चाहती थी......
    मैं गिर कर सम्हालना चाहती थी..
    चाहे जैसी हो चलना चाहती थी
    सिर्फ मैं टूटना नही चाहती थी....


    यही जज्बा होना ज़रूरी है सबके लिए.

    ReplyDelete
  13. सुन्दर सटीक भावपूर्ण रचना | आभर

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  14. tootna koi bhi nahi chahata par aksar anchaha hi hota hai........bahut sundar mam

    ReplyDelete
  15. बन कर हवा तुम्हे छु कर गुजरना चाहती थी....
    तुम्हारे साथ मैं हद से गुजरना चाहती थी.....
    सिर्फ मैं टूटना नही चाहती थी....!!!

    टूट कर जुड़ना कितना मुश्किल होता है
    भावपूर्ण सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  16. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 20/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  17. बन कर हवा तुम्हे छु कर गुजरना चाहती थी....
    तुम्हारे साथ मैं हद से गुजरना चाहती थी.....

    अत्यंत सारगर्भित बधाई

    ReplyDelete

  18. मैं शब्दों को गढ़ना चाहती थी....
    लम्हों को पिरोना चाहती थी....
    बन कर हवा तुम्हे छु कर गुजरना चाहती थी....
    तुम्हारे साथ मैं हद से गुजरना चाहती थी.....
    सिर्फ मैं टूटना नही चाहती थी....!!!
    बहुत ही भावपूर्ण सुन्दर कविता |

    ReplyDelete
  19. तुम्हारे साथ मैं हद से गुजरना चाहती थी.....
    सिर्फ मैं टूटना नही चाहती थी....!!!

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर प्रेममयी रचना ।।

    ReplyDelete
  21. सुन्दर. टूटना तो अंत है

    ReplyDelete
  22. बहुत ही बढ़िया


    सादर

    ReplyDelete
  23. भाव पूर्ण रचना ..बधाई

    ReplyDelete
  24. सुंदर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  25. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete