Saturday, 2 February 2013

दूसरा ख़त........ Valentine sepical........

तुम हमेशा कहते हो ना की तुम अपनी feelings को 
शब्दों में बता नही सकते...
क्यों कि तुम्हे जताना नही आता.और एक मैं हमेशा तुमसे कहती रहती हूँ..
कि मैं याद करती हूँ तुम्हे बहुत प्यार करती हूँ......ऐसा है.....वैसा है......
अपने दिल की हर बात बताती रही हूँ......
पर आज एक बात तुमसे कहना चाहती हूँ.....कि हाँ मैं तुम्हे समझती हूँ...
तुम्हारी हर अनकही बात को महसूस करती हूँ.....
पर यह भी सच है कि कभी-कभी तुम्हारी इस ख़ामोशी से डर जाती हूँ.....
मेरे इस डर को  मेरी कमजोरी ना बनने देना.....
तुम्हे पता है कि कभी-कभी हम जानते है कि हमारे बीच प्यार है .....
पर इसे जताना भी उतना ही जरुरी होता है......
जितना जिन्दगी के लिए साँसों का होना........!!!
                                                                                                                                                                         आहुति   
  
                      

15 comments:

  1. तुम्हे पता है कि कभी-कभी हम जानते है कि हमारे बीच प्यार है .....
    पर इसे जताना भी उतना ही जरुरी होता है......
    जितना जिन्दगी के लिए साँसों का होना........उम्दा अभिव्यक्ति,,,सुषमा जी


    RECENT POST शहीदों की याद में,

    ReplyDelete
  2. ये ख़त भी बहुत सुन्दर, भावनाओं के सागर में डूबा हुआ..
    प्रेम के गहराई का अहसास कराता मन को छू लेने वाला है..
    :-)

    ReplyDelete
  3. सुंदर रचना बधाई .....

    ReplyDelete
  4. विचार की सशक्त अभिव्यक्ति .प्यार तो एक सकारात्मक ऊर्जा है उसे छिपाने की ज़रुरत क्या है ?पता नहीं किस झोंक में लिखा गया है एक सही भाव गीत -आपको प्यार छिपाने की बुरी आदत है

    ,और हमें प्यार जताने की बुरी आदत है .

    और यह भी एक आदत सी हो गई है तू ,

    और आदत कभी नहीं जाती ,

    ज़िन्दगी है के जी नहीं जाती .

    Virendra Sharma ‏@Veerubhai1947
    ram ram bhai मुखपृष्ठ शनिवार, 2 फरवरी 2013 असली उल्लू कौनhttp://veerubhai1947.blogspot.in/
    Expand Reply Delete Favorite More

    ReplyDelete
  5. मौका भी है और दस्तूर भी....
    अब तो कह हे देंगे वो..
    <3
    प्यारा प्रेमपत्र..

    अनु

    ReplyDelete
  6. सुन्दर भावो को लिए हुए बेहतरीन प्रस्तुती।

    ReplyDelete
  7. पर इसे जताना भी उतना ही जरुरी होता है......
    जितना जिन्दगी के लिए साँसों का होना........!!!

    ....बहुत सुन्दर और भावपूर्ण..

    ReplyDelete
  8. वाकई जताना भी ज़रूरी है ॥

    ReplyDelete
  9. अति सुन्दर और भावपूर्ण सोच |

    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  10. प्यार है तो इजहार तो होना ही चाहिए :)
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  11. हम जानते है कि हमारे बीच प्यार है .....
    पर इसे जताना भी उतना ही जरुरी होता है......सच

    अनुपम भाव ...

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete