Sunday, 13 January 2013

तुम कहो तो....!!!

कुछ 'शब्द' समेटे है मैंने....तुम्हारे लिए... .                          
तुम कहो तो इन्हें पन्नो पर.........बिखेर दूँ.......

कुछ 'रंग' जिन्दगी से चुराये है.....तुम्हारे लिए... 
तुम कहो तो जिन्दगी में तुम्हारी.....भर दूँ....

कुछ 'ख्वाब' छुपा लिए अपनी आखों में....तुम्हारे लिए... 
तुम कहो तो तुम्हारी पलकों पर.....रख दूँ 

कुछ 'लकीरे' किस्मत से चुराई है....तुम्हारे लिए...
तुम कहो तो तुम्हारी हथेलियों पर....सजा दूँ .....

कुछ 'लम्हे' संजो कर रखे है.....तुम्हारे लिए 
तुम कहो तो तुम्हारे साथ.......गुजार लूँ.....

कुछ 'राहे' बना ली है.....तुम्हारे लिए... 
तुम कहो तो तुम्हे मंजिल तक.....छोड़ दूँ..... 

57 comments:

  1. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति,,,

    कुछ कहूं उनसे मगर यह ख्याल होता है
    शिकायतों का नतीजा मलाल होता है,,,,,

    recent post : जन-जन का सहयोग चाहिए...

    ReplyDelete
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति सोमवार के चर्चा मंच पर ।। मंगल मंगल मकरसंक्रांति ।।

    ReplyDelete
  3. बहुत प्यारी..भावभीनी रचना.

    अनु

    ReplyDelete
  4. कुछ 'लकीरे' किस्मत से चुराई है....तुम्हारे लिए...
    तुम कहो तो तुम्हारी हथेलियों पर....सजा दूँ .....

    बहुत सुंदर............

    ReplyDelete
  5. कुछ 'रंग' जिन्दगी से चुराये है.....तुम्हारे लिए...
    तुम कहो तो जिन्दगी में तुम्हारी.....भर दूँ...
    बहुत बढिया
    check my blog
    http://drivingwithpen.blogspot.in/

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण रचना ....
    मकरसंक्रांति की शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  7. Bilkul Sahi kaha apne.
    Bina kahe kux v kiya to dil khud se jabab magta hai.
    bahut hi sunder.

    ReplyDelete
  8. प्रेम की सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  9. तुम्हारे लिए राहें बन गई मंजिल तक पहुँचने की तुम कहो तो छोड़ दूँ ... बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  10. तुम कहो तो तुम्हे मंजिल तक.....छोड़ दूँ.....

    mazil tak saath milega aur kya chaahiye bhala...:-)

    sundar:-)

    ReplyDelete
  11. वाह देने का ये जज्बा बना रहे । वक़्त मिले तो जज़्बात पर भी आयें।

    ReplyDelete
  12. वाह ... बहुत ही अनुपम प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  13. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार 15/1/13 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है

    ReplyDelete
  14. अति सुन्दर लिखा है..

    ReplyDelete
  15. bahut khoob...shandar.
    तुम कहो तो इन्हें पन्नो पर.........बिखेर दूँ.......
    gazab likha hai..

    ReplyDelete
  16. कुछ 'लम्हे' संजो कर रखे है.....तुम्हारे लिए
    तुम कहो तो तुम्हारे साथ.......गुजार लूँ.....

    कुछ 'राहे' बना ली है.....तुम्हारे लिए...
    तुम कहो तो तुम्हे मंजिल तक.....छोड़ दूँ..

    प्रेम की सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  17. wahhh...Behtreen...
    http://ehsaasmere.blogspot.in/

    ReplyDelete
  18. बहुत खूब ... सच है प्रेम में सब कुछ उनका ही तो है ... उनके लिए ही तो है ...
    बहुत खूब ..

    ReplyDelete
  19. बहुत बढ़िया प्रस्तुति ।

    आदरेया -

    शुभकामनायें



    उद्धव लेकर चल पड़े, रो के रोके गोपि ।

    मथुरा की धुन में किशन, झिड़के करके कोपि ।

    झिड़के करके कोपि, सयानी गोपी बोली ।

    शब्द रंग कुछ ख़्वाब, हस्त-रेखाएँ खोली ।

    लम्हे रखी संजोय, बनाई राहें रविकर ।

    कहिये तो हम चलें, चले ज्यों उद्धव लेकर ।।

    ReplyDelete
  20. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  21. बहुत प्यारी रचना..

    ReplyDelete
  22. कुछ 'लम्हे' संजो कर रखे है.....तुम्हारे लिए
    तुम कहो तो तुम्हारे साथ.......गुजार लूँ.....
    SO NICE LINES WITH DEEP THOUGHT AND FEELINGS

    ReplyDelete
  23. bahut pyare bhaav liye rachna
    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर रचना के लिए बधाई |

    ReplyDelete
  25. प्रेम और समर्पण की सुन्दर अभिव्यक्ति।
    ~ मधुरेश

    ReplyDelete
  26. प्यार की इजहार का खुबसूरत अंदाज : सुन्दर अभिव्यक्ति
    New post कुछ पता नहीं !!! (द्वितीय भाग )
    New post: कुछ पता नहीं !!!

    ReplyDelete
  27. बहुत प्यारी! बहुत खूबसूरत! ये छोटी-छोटी ख्वाहिशें जीवन में कितने सुंदर रंग भर देतीं हैं...
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  28. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति .....आप भी पधारो आपका स्वागत है मेरा पता है ...http://pankajkrsah.blogspot.com

    ReplyDelete
  29. समर्पण भाव. सुन्दर .

    ReplyDelete
  30. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  31. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  32. बहुत प्यारी भावमयी रचना...

    ReplyDelete
  33. बहुत खूब बहुतखूब बहुतखूब !क्या कहने हैं रूपकात्मक अभिव्यक्ति के प्रेम की मिश्री के ,सौन्दर्य के पैरहन के .परवाज़ लग गए हैं शब्दों के पैरहन को

    ReplyDelete
  34. बहुत उम्दा प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  35. गज़ब की अभिव्यक्ति,प्यार के इजहार करने का निराला अंदाज।

    ReplyDelete
  36. बहुत खूब!!
    प्यार का नाम ही एक दूजे लिए होता है ..

    ReplyDelete
  37. बहुत प्रेमपूर्ण कविता।

    ReplyDelete
  38. विश्वास ही आधार है ....
    शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  39. विश्वास ही आधार है ....
    शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  40. वाह, बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  41. बहुत ही प्यारी रचना.
    अति सुंदर.....
    :-)

    ReplyDelete
  42. WO IJAJAT DE TO YAKINAN..AHSAAS AUR BHI KHUBSUTAR HO JATA HAI...

    ReplyDelete
  43. बहुत खूब आत्मविश्वास से लबरेज़ विचार अर्थ की सशक्त अभिव्यक्ति -तू कहे अगर जीवन भर मैं राग सुनाता जाऊं ,सपनों को चुराता जाऊं ...

    ReplyDelete