Saturday, 26 January 2013

उसने मुड़ कर देखा तो होता.........!!!

कभी तो मेरे शब्दों ने....                           
उसकी धडकनों को छुआ तो होता.....
कभी तो मेरी ख़ामोशी को.....
उसने सुना होता.....
कभी तो मेरे दिल का दर्द....
उसके दिल में उतर गया होता......
कभी तो मेरी यादो का झोका....
उसको छू कर गुजर गया होता.....
कभी तो यूँ चलते-चलते मेरे कदमो के निशां ने.....
उसके कदमो को रोका तो होता.......
कभी तो मेरी पलकों पर......
उसने अपने ख्वाबो को रखा तो होता......
मैं सच करती उसका हर ख्वाब.......
उसने मुझे पर थोडा भरोसा तो किया होता......
मैं साथ ही तो थी कभी तो......
उसने मुड़ कर देखा तो होता.........!!!

31 comments:

  1. i have no word to explain...superb.
    keep it up

    ReplyDelete
  2. हाँ ऐसा भी होता है कभी कभी .....'काश' इस एक शब्द से कायनात जुड़ी है...हम भी ...:)

    ReplyDelete
  3. wo kah ke chale itani mulakat bahut hai.....

    is baar kavita ke bhaw badal gaye hai...
    abhivyakti bhawpurn hai

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बढ़िया


    सादर

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति | आभार | आगे भी ऐसे ही लिखती रहिये और हमें आभार व्यक्त करने का मौका देते रहिये |

    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर रचना,,,लाजबाब अभिव्यक्ति,,,l

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,
    recent post: गुलामी का असर,,,

    ReplyDelete
  8. काश.......
    उसने मुझ पर न सही, खुद पर भरोसा किया होता..

    मैं साथ ही तो थी,
    कभी तो......
    उसने मुड़ कर देखा तो होता.........!!!

    superb.......

    ReplyDelete
  9. उम्दा प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत बधाई...६४वें गणतंत्र दिवस पर शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  10. bahut hi achcha...

    मैं सच करती उसका हर ख्वाब.......
    उसने मुझे पर थोडा भरोसा तो किया होता....

    ReplyDelete
  11. एक मलाल रह ही गया....
    अब तक दर्द बाकी है..

    सुन्दर भाव..

    अनु

    ReplyDelete
  12. मैं साथ ही तो थी कभी तो......
    उसने मुड़ कर देखा तो होता.........!!!

    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ.

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    वन्देमातरम् !
    गणतन्त्र दिवस की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  14. सुन्दर बन पड़ी है..

    ReplyDelete
  15. मैं साथ ही तो थी कभी तो......
    उसने मुड़ कर देखा तो होता.........!!!
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    New postमेरे विचार मेरी अनुभूति: तुम ही हो दामिनी।

    ReplyDelete
  16. प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त
    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    ReplyDelete
  17. hii i am auther of blog http://differentstroks.blogspot.in/
    hereby nominate you to LIEBSTER BLOGERS AWARD.
    further details can be seen on blog posthttp://differentstroks.blogspot.in/2013/01/normal-0-false-false-false-en-us-x-none.html#links
    await your comment thanks

    ReplyDelete
  18. कभी तो मेरी पलकों पर......
    उसने अपने ख्वाबो को रखा तो होता......
    मैं सच करती उसका हर ख्वाब.......
    उसने मुझे पर थोडा भरोसा तो किया होता......
    मैं साथ ही तो थी कभी तो......
    उसने मुड़ कर देखा तो होता.

    अद्भुत आपका अंदाज़ गजब की चाहत

    ReplyDelete
  19. कभी तो मेरी पलकों पर......
    उसने अपने ख्वाबो को रखा तो होता......
    मैं सच करती उसका हर ख्वाब.......


    उम्दा ख्याल है

    ReplyDelete
  20. सुदर अभिव्यक्ति ...दिल से निकली हुई रचना ...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  21. यह कविता अनुभूतियों के सागर में भावनाओं की एक लहर है।

    ReplyDelete
  22. बहुत ही बढ़िया

    ReplyDelete