Wednesday, 1 August 2012

मेरे भैया......!!!

                                   

17 comments:

  1. सुन्दर भाव को सहेजती भाई बहन का प्यार

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर रचना..
    इस पावन पर्व पर आपको ढ़ेर सारी शुभकामनाये :-)

    ReplyDelete
  3. हमारी ढेर सी शुभकामनाएं भी बाँध लीजिए...

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  4. राखी की हार्दिक शुभकामनाये

    ReplyDelete
  5. शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर काव्यमय प्रस्तुति भाई बहन के अमित प्यार की .बहिन, भाई के अन्दर पिता का निस्स्वार्थ छाता, और भैया, माँ को ढूंढता है कहतें हैं जो भाई अपनी बहन से बहुत रागात्मक सम्बन्ध बनाए रहतें हैं उनके साथ स्नेहिल बने रहतें हैं उन्हें हार्ट अटेक नहीं पड़ता ,दिल की बीमारियों से बचाता है माँ के जाने के बाद बहन का प्यार .रक्षा बंधन मुबारक -झूमें ये सावन सुहाना ,भैया मेरे राखी के बंधन को निभाना ,शायद वो सावन भी आये ,जो पहले सा रंग न लाये, बहन पराये देश बसी हो ,अगर वो तुम तक पहुँच न पाए ,झूमें ये सावन सुहाना ...इस गीत की मिसरी बचपन में ले जाती है .छोटी बहन का यह गीत आज भी उतना ही मीठा लगता है जितना "चंदा मामा दूर के ,पुए पकाए बूर के ,आप खाएं प्याली में ,मुन्ने को दें ,प्याली में ..

    ReplyDelete
  7. भाई बहन के प्यार का अटूट बंधन राखी ,
    बंधन कच्चे धागों का पक्का ......

    BEAUTIFUL AND NICE LINES WITH DEEP FEELINGS
    RAKHI KI BADHAI AUR SHUBHAKAMANA

    ReplyDelete
  8. भावमय करती प्रस्‍तुति ...
    आपको इस स्‍नेहिल पर्व की अनंत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    श्रावणी पर्व और रक्षाबन्धन की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  10. picture pe likhe hone ke kaaran thoda kasht hua padhne mein....lekin achhe kavita

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!...रक्षाबन्धन की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर और भावमय...

    ReplyDelete
  14. भावमय ... बहुत सुन्दर ...रक्षाबन्धन की हार्दिक शुभकामनाएँ ...

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर रचना.... रक्षाबन्धन की हार्दिक शुभकामनाएँ ...

    ReplyDelete