Thursday, 7 June 2012

मैं डाली फूलो की थी.....

मैं डाली फूलो की थी,                                                       
मैं खुशबु बागो की थी
कभी मैं शोखी झूलो की थी
तितली मैं हुआ करती थी....

ख्वाबो में रंग भरा करती थी,
कभी बाते परियों की मैं भी किया करती थी
चिड़ियों के साथ दूर आसमान तक
मैं उड़ा करती थी...

बादलो की तरह सखियों के साथ,
लुका-छिपी भी खेला करती थी..
वो वक़्त भी कितना हसीं था,
कुछ भी नही था...
फिर भी खुशियों की कमी  न थी......

बारिशो में पहले भी भीगा करती थी,
बूंदों से खेलना अच्छा लगता था
बारिशों में आज भी भीगती हूँ,
क्यों कि बूंदों के संग,
आसुओं का बह जाना अच्छा लगता है...

कभी किसी टूटते सितारे से अपने,
सपने पूरे होने कि दुआ माँगा करती थी.
आज उसी टूटते सितारे के साथ,
कोई इक सपना टूटता है मेरा.....

कभी यादों को संजो,
छोटी-छोटी चीजो को भी,
समेट कर रख लेती थी...
आज रिश्तों को संजोती हूँ,
तो जिन्दगी बिखर जाती है...
जिन्दगी को सम्हालती हूँ,
तो रिश्ते बिखर जाते है....
कितना अजीब है न.........

34 comments:

  1. जिंदगी है ही एक अजीब शय.....................

    आपके मनोभाव हमारे दिल में भी उपजते हैं अक्सर....

    ReplyDelete
  2. कभी यादों को संजो,
    छोटी-छोटी चीजो को भी,
    समेट कर रख लेती थी...
    आज रिश्तों को संजोती हूँ,
    तो जिन्दगी बिखर जाती है...
    जिन्दगी को सम्हालती हूँ,
    तो रिश्ते बिखर जाते है....
    कितना अजीब है न..

    खुबसूरत सपनों का संसार अद्भुत प्यार .सहेजिये अपने आँचल में हमने भेजा है अपना दुलार ........

    ReplyDelete
  3. आज रिश्तों को संजोती हूँ,
    तो जिन्दगी बिखर जाती है...
    जिन्दगी को सम्हालती हूँ,
    तो रिश्ते बिखर जाते है....

    भावपूर्ण सुंदर सार्थक अभिव्यक्ति ,,,,,

    MY RESENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: स्वागत गीत,,,,,

    ReplyDelete
  4. मन की उलझन सुलझाए कोई .....
    गहरे एहसास !
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  5. जिन्दगी ऐसी ही है एक डोर सुलझाते है तो दूसरा उलझता है..

    ReplyDelete
  6. कुछ भी नही था...
    फिर भी खुशियों की कमी न थी......wah.....bahot sunder.

    ReplyDelete
  7. सुन्दर और शानदार रचना।

    ReplyDelete
  8. Bahut acha, Dil ko chhune waala tha...
    especially the lines
    कभी किसी टूटते सितारे से अपने,
    सपने पूरे होने कि दुआ माँगा करती थी.
    आज उसी टूटते सितारे के साथ,
    कोई इक सपना टूटता है मेरा.....

    ReplyDelete
  9. नारी मन के भावों को शब्द दे दिए ...बहुत खूब

    ReplyDelete
  10. हाँ बहुत अजीब है ये जिंदगी भी, बिखरने समेटने में बीत जाती है... कोमल अहसास

    ReplyDelete
  11. आज रिश्तों को संजोती हूँ,
    तो जिन्दगी बिखर जाती है...
    जिन्दगी को सम्हालती हूँ,
    तो रिश्ते बिखर जाते है....

    कुछ खोकर पाना है या कुछ पाकर कुछ खोना है

    ReplyDelete
  12. bilkul sahi aankalan kiya hai aapne kisi bhi cheej ko sahejne me bahut waqt lagta hai par bikhrne ke lye pal bahr me sab bikhar jaata hai---
    bahut hi badhiya
    poonam

    ReplyDelete
  13. कभी यादों को संजो,
    छोटी-छोटी चीजो को भी,
    समेट कर रख लेती थी...
    आज रिश्तों को संजोती हूँ,
    तो जिन्दगी बिखर जाती है...
    जिन्दगी को सम्हालती हूँ,
    तो रिश्ते बिखर जाते है....
    कितना अजीब है न.........अब जाना मोह कितना भरमाता है , तरसाता है और रुलाता है

    ReplyDelete
  14. यह जिंदगी भी अजीब है तरतीब से चलती ही नही । बहुत ही सुंदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  15. पूरा जीवन ही एक अचम्भा है...
    सुन्दर शब्द चयन और बेहतरीन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  16. सुंदर संवेदनाएँ सुंदर अभिव्यक्ति सुंदर रचना.

    बधाई.

    ReplyDelete
  17. जावन इसी कों कहते हैं ... एक कों समेटते दूसरा बिखर जाता है ..
    पर फिर भी यादें ही संबल देने आती हैं ..

    ReplyDelete
  18. मन की व्यथा का सुन्दर चित्रण

    ReplyDelete
  19. जीवन विरोधाभासों की टोकरी है!! उत्तम कृति.

    वैसे यह पंक्ति "बादलो की तरह सखियों के साथ" अगर "बादलों के साथ,सखियों की तरह" होती तो शायद ज्यादा भावप्रद होती.

    ReplyDelete
  20. सुंदर अहसास व दिल को छूने वाली रचना।

    ReplyDelete
  21. जीवन में जो स्वाभाविक होता है वह सत्य है लेकिन रिश्तों और जीवन के बीच का संघर्ष टीस देता है. बहुत खूब कविता है.

    ReplyDelete
  22. आज रिश्तों को संजोती हूँ,
    तो जिन्दगी बिखर जाती है...
    जिन्दगी को सम्हालती हूँ,
    तो रिश्ते बिखर जाते है....
    कितना अजीब है न...
    सच में जिंदगी ही बहुत अजीब है..
    पल भर में क्या मौसम ले आये
    समझना मुश्किल है..
    बहुत ही सुन्दर भावमयी करती रचना..

    ReplyDelete
  23. raat aayi he to din bhi niklega...
    sab waqt ek se nahi hote....kucchh anubhav zindgi k sikha denge...kuchh ye zindgi ki dhoop....tab ye zindgi sawar jayegi....thoda sabr karo ye tabiyet behel jayegi...:-)

    ReplyDelete
  24. आज रिश्तों को संजोती हूँ,
    तो जिन्दगी बिखर जाती है...
    जिन्दगी को सम्हालती हूँ,
    तो रिश्ते बिखर जाते है....
    कितना अजीब है न....
    बिल्‍कुल सच ... बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  25. dil ko chhu lene wali kavita...
    bahut hi sundar, par bahut hi dard bhari...!!

    ReplyDelete
  26. बारिशो में पहले भी भीगा करती थी
    बूंदों से खेलना अच्छा लगता था
    बारिशों में आज भी भीगती हूँ
    क्यों कि बूंदों के संग
    आसुओं का बह जाना अच्छा लगता है.

    आपकी ये पंक्तियां कविता को अनुपम बना रही हैं।
    बहुत और बहुत ही बढि़या।

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  28. बेहतरीन प्रस्‍तुति......

    ReplyDelete
  29. Khoobsoorti se varnan kiya hai.. Badhai

    ReplyDelete