Saturday, 18 February 2012

खुश थी जब मैं कुछ नही समझती थी......!!!

जब  मैं  नही  समझती थी,                                      
जिंदगी के मायने तब ही अच्छी  थी
ख्वाबो में जिया करती थी,
ख्यालो में खुश रहा करती थी...

खुश थी कुछ न जान कर,
अंजान थी जिंदगी की हकीकत से,
तब ही अच्छी थी ....
ख्यालो में खुश रहा करती थी...

तब न राहो की,न मंजिलो की कमी थी,
जिंदगी का हाथ पकड़ कर
ख्वाबो में चला करती थी...
ख्यालो में खुश रहा करती थी... 

आज जब जिंदगी ने मेरा हाथ पकड़ कर,
हकीकत से मिलाया है
मैंने हर सच्चाई को झूठा पाया  है ....
जब मैं अंजान थी,
इस हकीकत से तब ही अच्छी थी
ख्यालो में खुश रहा करती थी.....

तब न किसी से उम्मीदे थी,
न कुछ खोने का डर था
खुद में सिमटी,खुद में खोई थी...
अकेली थी पर इतनी न अकेली थी ..

आज पूछती हूँ मैं खुद से कि,
 मैं ऐसी तो नही थी....
खुश थी जब मैं कुछ नही समझती थी......
ख्यालो में खुश रहा करती थी.....

42 comments:

  1. 1st to read or perhaps 1st to comment.. Thanx for giving me this honour... Most of ur poems are quiet touchy.. poems ko padne me to vakt ni lagta par.. Par dilo dimag me ghanto.. Dino tak gunjti rehti hain.. Jaise bhale kuch minton ki ho.. Pero k patto se pani tapakta rehta h.. Ghaso ki nami barkarar rehti hai aur mitti ki sondhi khusboo dil ko mehkati rehti hai.. Aisi hoti hain aapki kavitayen...

    ReplyDelete
  2. zindgee kee haqeeqat kabhee
    chuup nahee saktee
    khwaabon kee duniyaa se alag hotee
    kabhee naa kabhee pataa chaltee

    ReplyDelete
  3. bahut sunder bhav hai ,,,,,,,,,,,,

    ReplyDelete
  4. मैं खुश थी...मैं खुश थी जब मैं बच्ची थी....

    बहुत सुन्दर भाव...

    ReplyDelete
  5. आज जब जिंदगी ने मेरा हाथ पकड़ कर,
    हकीकत से मिलाया है
    मैंने हर सच्चाई को झूठा पाया है ....
    जब मैं अंजान थी,
    इस हकीकत से तब ही अच्छी थी
    ख्यालो में खुश रहा करती थी.....

    व्यक्ति कभी हकीकत जानकार खुश रहता है , और कभी बिना हकीकत को जाने उसे ख़ुशी होती है .....! यह जीवन है ही ऐसा है .....!

    ReplyDelete
  6. जब मैं नही समझती थी,
    जिंदगी के मायने तब ही अच्छी थी
    ख्वाबो में जिया करती थी,
    ख्यालो में खुश रहा करती थी...

    Sundar rachna....

    ReplyDelete
  7. मन की गहरी टीस झलक रही है इस कविता से।


    सादर

    ReplyDelete
  8. हाँ ... पर इस समझ की दौर से गुजरना ही होता है

    ReplyDelete
  9. वाह ! बहुत ही खूबसूरती से लिखा है..या कहूँ तो बिलकुल सच ही लिखा है.

    ReplyDelete
  10. खुश थी जब मैं कुछ नही समझती थी......
    ख्यालो में खुश रहा करती थी.....

    कभी अनजान रहने में भी समझदारी होती है.

    ReplyDelete
  11. ehsaaso ko badi karigari se shabdo me piroya hai, bahut sundar hai....

    ReplyDelete
  12. कब तक अनजान रहा जा सकता है.. बहुत प्यारे अहसास और उनकी सुंदर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  13. लाज़व्वाब ,... सुदर पोस्ट है , सुषमा जी॥ ॥
    बचपन,न समझने का ही दूसरा नाम है मेरे भी ब्लॉग पर आयें

    ReplyDelete
  14. खुश थी जब मैं कुछ नही समझती थी......
    ख्यालो में खुश रहा करती थी.....
    तब न किसी से उम्मीदे थी,
    न कुछ खोने का डर था
    खुद में सिमटी,खुद में खोई थी...
    अकेली थी पर इतनी न अकेली थी . bahut hi sundar...

    ReplyDelete
  15. आज जब जिंदगी ने मेरा हाथ पकड़ कर,
    हकीकत से मिलाया है
    मैंने हर सच्चाई को झूठा पाया है ....
    शायद यही है जिंदगी

    ReplyDelete
  16. जिंदगी की सच्चाई बताती है आपकी यह रचना .
    बहुत ही बढ़िया प्रस्तुति...
    :-)

    ReplyDelete
  17. आज पूछती हूँ मैं खुद से कि,
    मैं ऐसी तो नही थी....
    खुश थी जब मैं कुछ नही समझती थी...waah sbke dil ki baaten.

    ReplyDelete
  18. आज जब जिंदगी ने मेरा हाथ पकड़ कर,
    हकीकत से मिलाया है
    मैंने हर सच्चाई को झूठा पाया है ...........

    ReplyDelete
  19. bahut acchi lagi aapki rachna.....bilkul aapki tarah.....

    ReplyDelete
  20. सोलह आने सच है जब हम जिंदगी के मायने नहीं समझते तब खुश रहते हैं। वैसे समझने के बाद भी खुशी के रास्ते तो ढूंढ़े ही जा सकते हैं।

    ReplyDelete
  21. काश: ये ही सच रहता .....
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  22. ignorance is bliss...और जिंदगी वैसे भी एक ख्वाब से कम नहीं...ज्यादा सोचने समझने की गुंजाईश नहीं है...

    ReplyDelete
  23. मैं खुश थी जब मैं बच्ची थी....बहुत भावमयी अभिव्यक्ति... आप को महा शिव रात्रि पर हार्दिक बधाई..

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर ढंग से मन की बात प्रस्तुत की है...!

    ReplyDelete
  25. हकीकत से दो चार होना ही पड़ता है..सुंदर रचना!

    ReplyDelete
  26. जिंदगी की कड़वी हकीकत जान के सुखी रहना आसान तो नहीं ... पर जो खुश रहता है वो ही जीवन जीता है ...

    ReplyDelete
  27. वो बचपन के दिन किसी जन्नत से कम नहीं थे,
    बहुत खूबसूरत प्रस्तुति

    ReplyDelete
  28. वो मेरे बचपन के दिन थे जब चाँद में परियां रहती थी ।

    ReplyDelete
  29. ख्यालों में ही खुशी बसती है । हकीकत तो कठोर धूप की तरह है ।

    ReplyDelete
  30. जीवन की यह विडंबना हर एक के हिस्से में आती है ....और एक कटु वास्तविकता से परिचय करा जाती है

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर रचना :)
    ख्यालों कि दुनियां सच में बहुत खूबसूरत होती है ,
    पर हकीकत से ये बहुत दूर रहा करती है |

    ReplyDelete
  32. प्रिय सुषमा आहुति जी --खूबसूरत अहसास ..हकीकत होती ही ऐसी है ...सटीक अभिव्यक्ति वक्त का ...बचपन याद दिला जाती है काश वो दिन फिर लौट आये
    जय श्री राधे
    भ्रमर५

    ReplyDelete
  33. sushma jee aapke blog par pahli baar aana hua aur bahut hi sundar rachna mili

    ReplyDelete
  34. आज जब जिंदगी ने मेरा हाथ पकड़ कर,
    हकीकत से मिलाया है
    मैंने हर सच्चाई को झूठा पाया है ....
    जब मैं अंजान थी,
    इस हकीकत से तब ही अच्छी थी
    ख्यालो में खुश रहा करती थी.....

    अंजान रहते तक ही सुख हैं.सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  35. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति| धन्यवाद।

    ReplyDelete
  36. एक स्वाभाविक रचना ....

    ReplyDelete