Monday, 13 February 2012

शायद ऐसा ही प्यार होता है....... !!!


मुझे नही पता की प्यार क्या होता है
प्यार को समझने के लिए कोई
 बहुत-बहुत बड़े-बड़े ग्रन्थ नही पढ़े मैंने 
प्यार को व्यक्त करने के लिए कोई
 बड़े-बड़े शब्द भी नही मिले मुझे
मुझे तो सिर्फ इतना पता है...
किसी का ख्याल चुपके से होटों पे मुस्कान ला देता है
कोई हवा का झोका छू कर गुजरता है
तो किसी के होने का एहसास दिला देता है
जिसके लिए सिर्फ हम दिल से सोचते है
 शायद ऐसा ही प्यार होता है.. !!!

49 comments:

  1. होता तो ऐसा ही है ...

    ReplyDelete
  2. हाँ...एहसास ही है प्यार...और क्या...

    ReplyDelete
  3. वैलेन्टाइन दिवस की पूर्व संध्या पर भावों का जीवंत प्रस्तुतीकरण,
    बधाइयाँ।

    ReplyDelete
  4. हाँ ऐसा ही प्यार होता है...

    ReplyDelete
  5. जिससे दूसरे को खुशी मिले बस वही प्यार है ॥सुंदर

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
  7. जी हाँ ! शायद ऐसा ही होता है

    ReplyDelete
  8. प्यार एक अहसास है ...प्यार शब्दों का मोहताज नही होता ...प्यार महसूस होता है !!!
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  9. शायद नहीं.....ये सच मे ही ऐसा होता है।

    प्रेम दिवस की हार्दिक बधाई।

    सादर

    ReplyDelete
  10. प्यार यही है..

    ReplyDelete
  11. ऐसा ही प्यार होता है......bahut khub....

    ReplyDelete
  12. बढ़िया प्रस्तुति !
    प्यार एसा ही तो होता है !

    ReplyDelete
  13. यही तो प्यार है ....
    यही सच्चे प्यार की अनुभूति है
    सुन्दर सुन्दर,,,
    बेहतरीन अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  14. बहुत ही अच्‍छा लिखा है ...
    कल 15/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है !
    क्‍या वह प्रेम नहीं था ?

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. बिलकुल ऐसा ही प्यार होता है |

    ReplyDelete
  16. बिलकुल सही कहा अपने,शायद भावनाओं की समझ और अदाएगी ही तो प्यार है,
    खूबसूरत पेशकश

    ReplyDelete
  17. सही ही लिखा है आपने ...

    ReplyDelete
  18. वाह...अद्भुत रचना है आपकी...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  19. ऐसा ही होता है प्यार ....यह खुद ही अनुभूत होता है ....इसके लिए कुछ पढने के लिए जरुरत नहीं ....यह समझ लेने की जरूरत है ....प्रेम - प्रेम होता है ...!

    ReplyDelete
  20. ढाई आखर प्रेम का जो पढ़े सो पंडित होई...कोई ज़रूरत नहीं है शब्दकोष की...

    ReplyDelete
  21. प्यार को शब्दों की ज़रूरत कब होती है..प्यार ऐसा ही होता है..

    ReplyDelete
  22. pyar ka sunder chitran kiya hai.............

    ReplyDelete
  23. ye ishq hai ishq hai aur kuchh bhi nahi ,jo ho jata ,bahut badhiya ,sushma ji aane ke liye shukriyaan .

    ReplyDelete
  24. किसी का ख्याल चुपके से होटों पे मुस्कान ला देता है
    wahi to pyar hai:))

    ReplyDelete
  25. प्यार ऐसा ही होता है..सुन्दर..

    ReplyDelete
  26. प्रेम ग्रंथों में कब सिमटा है
    प्रेम शब्दों में कब समाया है
    प्रेम तो खुद को खोना है
    जिसने खोया उसने पाया है


    खूबसूरत अभिव्यक्ति...
    सादर बधाई.

    ReplyDelete
  27. Seedhe sachhi baat..
    waise bhi pyaar ko paribhaashit karna kisi k bas ki baat nahi.. har kisi ko alag alag roop mein dikhaai deta hai.. alag alag eksaah karaata hai..
    bahut sundar rachna :)

    palchhin-aditya.blogspot.in

    ReplyDelete
  28. बहुत ही अच्छा लिखा है, साधुवाद

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर रचना,खूबसूरत प्रस्तुति

    आपका
    एक ब्लॉग सबका

    आज का आगरा

    ReplyDelete
  30. जो मुस्कानों से भर दे वही प्रेम है.

    ReplyDelete
  31. हाँ यही प्यार है मेरे दोस्त ....
    ना होकर भी
    मेरे पल मे
    तुम्हारा होना

    ReplyDelete
  32. sach hai, aisa hi pyar hota hai. sundar rachna ke liye badhai

    ReplyDelete
  33. हाँ ऐसा ही होता है,यदि संक्षेप में कहें तो खुदा ही प्यार और प्यार ही
    खुदा होता है।
    खूबसूरत सराहनीय रचना.....
    नेता- कुत्ता और वेश्या (भाग-2)

    ReplyDelete
  34. सिर्फ एहसास है ये रूह से महसूस करो, सुंदर एहसास......

    ReplyDelete
  35. जब तेरा न होना भी तेरे पास होने का अहसास करा जाए
    बस समझो वहीँ दिल में प्रेम का झरोखा खुल जाए ..... बस वाही है प्यार.. बहुत खूबसूरत अहसास को कराती रचना के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  36. मन को जो हवा छूकर गुज़र जाये,
    वो प्यार है जिससे जीवन बन संवार जाये।
    बधाई सुंदर रचना के लिए...

    ReplyDelete
  37. प्यार के एहसास को जीना ही प्यार कहते हैं ... लाजवाब प्रस्तुति है ...

    ReplyDelete
  38. एक मुद्दत से थे इस रुत कि हसरत में..
    कि जब भी टकराई हमसे कोई शोख हवा...
    लगा जैसे अभी छूआ तुमने...
    खामोश बैठे हैं तेरी यादों के संग...
    पर ऐसा लगता है जैसे...
    अभी कुछ कहा तुमने...
    - Alok Upadhayay
    https://www.facebook.com/safarthejourney

    ReplyDelete
  39. मुझे तो सिर्फ इतना पता है...
    किसी का ख्याल चुपके से होटों पे मुस्कान ला देता है
    ...जी हाँ आपने ठीक जाना ....यह भी प्यार का एक रूप है

    ReplyDelete