Sunday, 5 February 2012

इतिहास भी रच सकती हूँ मैं......!!!


रंग तितलियों में भर सकती हूँ मैं......                               
फूलो से खुशबू भी चुरा सकती हूँ मैं......
यूँ ही कुछ लिखते-लिखते 
इतिहास भी रच सकती हूँ मैं......

चाह लूँ तो उस आसमां को भी
छू सकती हूँ मैं.....
देख लेना कभी आसमां पर,
बिना पंखो के बादलो  के संग भी 
उड़ सकती हूँ मैं.....

दोस्त बन जाऊं जो किसी की.....
उसे हर मुश्किल से
जीतना सिखा सकती हूँ मैं.....
हमसफ़र बन जाऊं जो किसी की,
उसकी हर राह मंजिल बना सकती हूँ मैं.....
नज़र भर कर देख लूँ जिसको,
उसे अपना बना सकती हूँ मैं.....

जज्बा तो वो रखती हूँ,                                                         
की पार पर्वत भी कर सकती हूँ मैं....
कभी देखना सागर की गहराइयो में,
लहरों के साथ गहराइयो को भी
छू सकती हूँ मैं....

मेरे प्यार,मेरे समर्पर्ण को,
मेरी कमजोरी न समझना 
मिट सकती हूँ किसी पर
तो मिटा भी सकती हूँ मैं....
खुद पर आ जाऊं तो
इस दिल को पत्थर भी बना सकती हूँ मैं...... 

जीत सको तो प्यार से जीत लेना मुझे,
प्यार में सब कुछ हार सकती हूँ मैं.....
कमजोर नही हूँ,मजबूर भी नही हूँ,
जिद पर आ जाऊं तो 
दुनिया भी बदल सकती हूँ मैं..... 

यूँ ही कुछ लिखते-लिखते 
इतिहास भी रच सकती हूँ मैं......

59 comments:

  1. मेरे प्यार,मेरे समर्पर्ण को,
    मेरी कमजोरी न समझना
    मिट सकती हूँ किसी पर
    तो मिटा भी सकती हूँ मैं....very nice....,

    ReplyDelete
  2. जज्बा तो वो रखती हूँ, की पार पर्वत भी कर सकती हूँ मैं....
    कभी देखना सागर की गहराइयो में,
    लहरों के साथ गहराइयो को भी
    छू सकती हूँ मैं....
    इसे कहते है , खुदी को बुलंद कर इतना .................... रज़ा क्या है.... :)
    आपके हौसला - जज्बा को सलाम.... :)

    ReplyDelete
  3. यूँ ही कुछ लिखते-लिखते
    इतिहास भी रच सकती हूँ मैं......

    बस तो देर किस बात की रच ही दीजिये इतिहास हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं।
    बेहद अच्छी लगी आपकी यह कविता।

    सादर

    ReplyDelete
  4. इसे कहते हैं आत्मविश्वास ... शब्द में दम , भाव में दम - एकदम अलग अंदाज ! आत्मविश्वास से भरी शानदार अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  5. फिर कहूँगी - इस रचना के माध्यम से तुमने इतिहास रच दिया ...

    ReplyDelete
  6. waah...har panktiyo me ek naya josh aur kuch kar gujarne ki lalak.....its the wonderfull self confidence...nice poetry :)

    ReplyDelete
  7. बात में दम है...

    ReplyDelete
  8. मेरे प्यार,मेरे समर्पर्ण को,
    मेरी कमजोरी न समझना
    मिट सकती हूँ किसी पर
    तो मिटा भी सकती हूँ मैं....

    सच है...
    बेहद सुन्दर सशक्त रचना सुषमा जी..

    ReplyDelete
  9. खुद पर आ जाऊं तो
    इस दिल को पत्थर भी बना सकती हूँ मैं.
    यूँ ही कुछ लिखते-लिखते
    इतिहास भी रच सकती हूँ मैं.
    प्रत्येक पंक्ती में जोश है
    कुछ कर गुजरने का दम है , साहस है, विश्वास है.
    आत्मविश्वास से भरी शानदार रचना..

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन भाव पूर्ण सार्थक रचना.....
    खबरनामा की ओर से आभार

    ReplyDelete
  11. sahi kaha ...chahu to kuch bhi kar sakti hun..

    ReplyDelete
  12. यकीनन इतिहास भी रच सकती हूँ मैं . शानदार भावना

    ReplyDelete
  13. nice to come on ur blog........

    Bahut Badiya.....Agyey ki panktiyaan aapke blog par dekh kar khinchi chali aai...aana sarthak hua

    ReplyDelete
  14. आनंद से भर दिया आपने सुषमा जी, ये न हुई बात .. इतिहास में दर्ज होने वाली रचना के लिए बधाई..

    ReplyDelete
  15. सुषमा जी, बहुत सुंदर भाव और जोश भरा अंदाज...बहुत बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  16. मिट सकती हूँ किसी पर
    तो मिटा भी सकती हूँ मैं...बहुत सशक्त शब्दो द्वारा भाव को व्यक्त कर अपने आत्मविश्वास को दर्शाया...बहुत सुन्दर रचना सुषमा जी..

    ReplyDelete
  17. आपके इतिहास रचने के इंतज़ार में....
    सकारात्मक सोच वाली रचना.

    ReplyDelete
  18. itnihas rach hi daala bahut achi poem likh kr :)

    ReplyDelete
  19. सुभानाल्लाह बहुत ही खुबसूरत पोस्ट.....सच इंसान अगर चाहे तो क्या नहीं कर सकता.....जहाँ चाह वहां राह |

    ReplyDelete
  20. कल 07/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  21. क्षमताओ को शब्दों का खूबसूरत आवरण दिया है

    ReplyDelete
  22. चित्र और रचना...दोनों बेजोड़

    नीरज

    ReplyDelete
  23. जज्बा तो वो रखती हूँ,
    की पार पर्वत भी कर सकती हूँ मैं....
    कभी देखना सागर की गहराइयो में,
    लहरों के साथ गहराइयो को भी
    छू सकती हूँ मैं....

    parvat aur sagar ki chunautiya sweekar karana asan nahi ho sakata fir bhi hausle buland ho to jaroor sagar ko chhoona aasan hai....bahut hi urjavan rachana badhai sweekaren Sushma ji .

    ReplyDelete
  24. खुद पर विश्‍वास करने की अदम्‍य शक्ति को दर्शाती बेहतरीन रचना।

    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
  25. यूँ ही कुछ लिखते-लिखते
    इतिहास भी रच सकती हूँ मैं......

    वाकई आपकी अभिव्यक्ति इतनी ही सशक्त है ...शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  26. क्या बात है सुषमा जी बहुत खुबसूरत रचना

    ReplyDelete
  27. vaah ,...vaah himmate naari madade khuda.
    soch aur himmat ho to eysi.bahut bahut achcha likha.

    ReplyDelete
  28. मेरे प्यार,मेरे समर्पर्ण को,
    मेरी कमजोरी न समझना
    मिट सकती हूँ किसी पर
    तो मिटा भी सकती हूँ मैं....
    खुद पर आ जाऊं तो ...

    बहुत खूब ... ये शक्ति भी प्यार से ही आती है ... पर मिटना मिटाना क्यूँ प्यार में ...? इसे तो जीना चाहिए ...

    ReplyDelete
  29. ise hahte hai sakratmak najriya.....behad sundar shushma ji...kavitao mein sirf drd hi drd nahin hoto uska yah rang bhi hota hai..

    ReplyDelete
  30. जीत सको तो प्यार से जीत लेना मुझे,
    प्यार में सब कुछ हार सकती हूँ मैं.....
    कमजोर नही हूँ,मजबूर भी नही हूँ,
    जिद पर आ जाऊं तो
    दुनिया भी बदल सकती हूँ मैं.....

    यूँ ही कुछ लिखते-लिखते
    इतिहास भी रच सकती हूँ मैं......

    जे ब्बात......ऐसा आत्मविश्वास हो तो कुछ भी असम्भव नहीं है.बहुत ही बेहतरीन रचना, वाह !!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  31. apki rachna ko padkar mujhe jhansi ki rani yaad aati he jo british sena se ladi. wahi laxmi bai es kavita ke madhyam se mujhe apme dikhi.
    BADHAI HO ES KAVITA KE KIYE.

    ReplyDelete
  32. EK ETIHAS LAXMI BAI NE LIKHA THA.
    EK ETIHAS KALPANA CHAWLA NE LIKHA THA.
    EK ETIHAS INDRA GANDHI OUR PRATIBHA PATIL NE LIKHA HAI. ME DIL SE KAMNA KARTA HU KI APBHI YESA HI EK ETIHAS LIKHE BADHAI HO ETNI ACHCHHI RACHNA KE LIYE.

    ReplyDelete
  33. //मेरे प्यार,मेरे समर्पर्ण को,
    मेरी कमजोरी न समझना
    मिट सकती हूँ किसी पर
    तो मिटा भी सकती हूँ मैं....
    खुद पर आ जाऊं तो
    इस दिल को पत्थर भी बना सकती हूँ मैं......

    waah .. kya baat hai :)


    palchhin-aditya.blogspot.in

    ReplyDelete
  34. चाह लूँ तो उस आसमां को भी
    छू सकती हूँ मैं.....सारी बातें सच्ची है।

    ReplyDelete
  35. बहुत खूबसूरत रचना आप वाकई में इतिहास रच सकती हैं. शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  36. ऐसा आत्मविश्वास हो तो कुछ भी कर सकती हैं आप । बेहतरीन रचना ।

    ReplyDelete
  37. बहुत खुबसूरत रचना.

    ReplyDelete
  38. आत्मविश्वास हो तो ऐसा बहुत सुंदर रचना ....

    ReplyDelete
  39. बहुत ख़ूबसूरत, बधाई.
    कृपया मेरे ब्लॉग" meri kavitayen" की नवीनतम पोस्ट पर पधारकर अपना स्नेह प्रदान करें.

    ReplyDelete
  40. मन में हौसला हो तो कुछ भी असंभव नहीं।

    बहुत अच्छी रचना।

    ReplyDelete
  41. दोस्त बन जाऊं जो किसी की.....
    उसे हर मुश्किल से
    जीतना सिखा सकती हूँ मैं..

    ReplyDelete
  42. दोस्त बन जाऊं जो किसी की.....
    उसे हर मुश्किल से
    जीतना सिखा सकती हूँ मैं..

    ReplyDelete
  43. समय के साथ संवाद करती हुई आपकी यह प्रस्तुति बहुत ही अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट "भीष्म साहनी" पर आपका बेशब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  44. नारी सशक्तिकरण की दिशा में एक अच्छी कविता के लिए वधाई।

    ReplyDelete
  45. भाई अरुण के माध्यम से आहुति में प्रवेश
    बहुत सुंदर रचनाओं का संग्रह पढ़ने को मिला
    शक्ति,क्षमताओ,का उत्साह जनक प्रेरणा दायक
    बहुत बढिया

    ReplyDelete
  46. बहुत सुंदर लिखा है.

    ReplyDelete
  47. prabhavshali rachana ke liye ak fir se badhai.

    ReplyDelete
  48. एक बेहद सशक्‍त रचना ....बहुत-बहुत बधाई

    ReplyDelete
  49. आज की युवा पीढ़ी को इसी जज़्बे कि ज़रुरत है. शुक्रिया इस बेहतरीन प्रस्तुति के लिए.

    ReplyDelete
  50. यही हौसला होना चाहिए ... सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  51. आत्मा विश्वाससे ओतप्रोत यह रचना पढ़कर ..खुद पर विश्वास करने को जी चाहता है ! बहुत सुन्दर ..एक बहुत बड़ी उपलब्धि !!!!

    ReplyDelete
  52. bahut hi sunder likha hai aapne
    wishes..

    ReplyDelete