Wednesday, 14 December 2011

आज ख्वाब लिख रही हूँ मैं...... !!!


तन्हा बैठी आज कुछ लिखने जा रही हूँ...                          
खुली आखों से कुछ सपने बुनने जा रही हूँ.....
सालो पहले कुछ सवाल किये थे खुद से,
उन सवालो के जवाब लिख रही हूँ मैं....
आज ख्वाब लिख रही हूँ मैं...... 

जीवन की आपाधापी से दूर दिन वो बचपन के,
जब आखों में सिर्फ ख्वाब हुआ करते थे 
एक जादू की नगरी थी,परियो की बाते थी,
सच्ची न होकर भी वो बाते सच्ची लगती थी....
दिल में छिपे हैं कही अभी भी,
वो एहसास लिख रही हूँ मैं.....
आज ख्वाब लिख रही हूँ मैं......


भला लगता था पूरी दुनिया को भूल,
खुद में खोये रहना..
उस छोटे से घर को ही सारा संसार समझना...
उन पलो,उन लम्हों में जिन्दगी है गुजरी,
कुछ खास लिख रही हूँ मैं.....
आज ख्वाब लिख रही हूँ मैं.............


63 comments:

  1. जीवन की आपाधापी से दूर दिन वो बचपन के,
    जब आखों में सिर्फ ख्वाब हुआ करते थे वो एहसास लिख रही हूँ मैं...verynice..

    ReplyDelete
  2. सुन्दर प्रस्तुति पर हमारी बधाई ||

    terahsatrah.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. सबको अपना बचपन याद आ जायेगा आपकी रचना पढकर............बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  4. वो एहसास लिख रही हूँ ... आज ख्वाब लिख रही हूँ मैं..

    ReplyDelete
  5. एक ख्वाब पढ़ रही हूँ मैं ...

    ReplyDelete
  6. सच है मै भी एक ख्वाब पढ़ रही हूँ..वो भी बहुत प्यारा और मासूम सा....

    ReplyDelete
  7. सुंदर रचना।
    बेहतरीन जज्‍बात।

    ReplyDelete
  8. bahut dard hai is dil me - sabass

    ReplyDelete
  9. Kabil-e-taareef hai ye sunder khwaab....

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर....
    दाद कबूल करें.

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया प्रस्तुति

    Gyan Darpan
    Matrimonial Site

    ReplyDelete
  12. क्या खूबसूरत ख्वाब लिखा है!

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन रचना ..

    ReplyDelete
  14. फुर्सत के दो क्षण मिले, लो मन को बहलाय |

    घूमें चर्चा मंच पर, रविकर रहा बुलाय ||

    शुक्रवारीय चर्चा-मंच

    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  15. अरे मेरी टिपण्णी कहाँ गई ... स्पैम टिपण्णी में देखिये अब्ली ब्लॉग सेट्टिंग में ...

    ReplyDelete
  16. वाह ... लाजवाब लिखा है आपने ..

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर रचना ... ख़्वाबों में खो जाने का मन होता है

    ReplyDelete
  18. बहुत खुबसूरत और कोमल भावों से भरी पोस्ट|

    ReplyDelete
  19. बचपन के दिन भी क्या दिन थे..ख्वाबों की बहुत सुंदर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  20. उन सवालो के जवाब लिख रही हूँ मैं....
    आज ख्वाब लिख रही हूँ मैं......
    वाह! बहुत खूबसूरत रचना....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  21. ्सुन्दर भावाव्यक्ति।

    ReplyDelete
  22. आप यूँ ही ख्वाब लिखती रहिये...उन्हें जीती रहिये..बधाई

    ReplyDelete
  23. बहुत ही सुंदर रचना है ... आपकी भावनाओ का प्रस्तुतिकरण उम्दा होता है !!

    ReplyDelete
  24. सुंदर रचना।
    बेहतरीन प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  25. अभिव्यक्ति का माध्यम
    काव्य है
    और काव्य अनुपम, अनूठा और
    प्रभावशाली है ....

    वाह !!

    ReplyDelete
  26. bahut sundar prastuti.komal ehsaas jagati hui panktiyan.

    ReplyDelete
  27. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति है आपकी.

    आभार.

    ReplyDelete
  28. भला लगता था पूरी दुनिया को भूल,
    खुद में खोये रहना...

    बहुत खुबसूरत और भावपूर्ण रचना |

    ReplyDelete
  29. जवाब लिख रही हो, एक ख्वाब लिख रही हो
    खूबसूरत भाव , लाजवाब लिख रही हो.

    ReplyDelete
  30. भला लगता था पूरी दुनिया को भूल,
    खुद में खोये रहना..
    उस छोटे से घर को ही सारा संसार समझना...
    उन पलो,उन लम्हों में जिन्दगी है गुजरी,
    कुछ खास लिख रही हूँ मैं.....
    आज ख्वाब लिख रही हूँ मैं.............

    vah Sushma ji bahut sundar ... abhar

    ReplyDelete
  31. apne to bachpan chitrit karke use jeene pe majboor kar diya,
    bahut khoob

    ReplyDelete
  32. बहुत प्यारे से एहसास .......

    ReplyDelete
  33. वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  34. बचपन जो कभी दुबारा नहीं आता ..वाह ! बहुत खुबसूरत !

    ReplyDelete
  35. सटीक सार्थक रचना |बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  36. bachapan ki yad dilati bahut hi sundar rachana hai..

    ReplyDelete
  37. आपके पोस्ट पर आना सार्थक होता है । मेरे नए पोस्ट "खुशवंत सिंह" पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  38. आप काफी अच्छा लिखती है ,पहली बात आप के ब्लॉग पर आना हुआ,रचना और ब्लॉग दोनों हो बेहतरीन है......
    कुछ खास लिख रही हूँ मैं.....
    आज ख्वाब लिख रही हूँ मैं.............हमे तो ख्वाब देखने ही आते है और आप लिख भी सकती है ,अच्छा लगा सुन कर,ख्वाब लिखने पर बधाई स्वीकारें .....

    ReplyDelete
  39. 50 वीं टिप्पणी, बधाई हो!

    ReplyDelete
  40. बहुत खूब लिखा है आपने! उम्दा रचना! बधाई!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  41. सुंदर रचना लिखने बधाई,....सटीक सार्थक पोस्ट,....

    मेरे नये पोस्ट लिए काव्यान्जलि..: महत्व .. में click करे

    ReplyDelete
  42. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  43. khubsurat rachna..bahut hi gehre soch se likhe gye!u'r a good writer,I'll keep revisiting.

    ReplyDelete
  44. क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनायें !
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  45. भला लगता था पूरी दुनिया को भूल,
    खुद में खोये रहना..
    उस छोटे से घर को ही सारा संसार समझना...
    उन पलो,उन लम्हों में जिन्दगी है गुजरी,
    कुछ खास लिख रही हूँ मैं.....
    आज ख्वाब लिख रही हूँ मैं.............

    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  46. बेहतरीन रचना ...सच्ची न होकर भी वो बाते सच्ची लगती थी....
    दिल में छिपे हैं कही अभी भी,
    वो एहसास लिख रही हूँ मैं..... !!

    ReplyDelete
  47. aapke khawab padh aaj apne khawab yaad aa gye...sundar rachna

    ReplyDelete
  48. भला लगता था पूरी दुनिया को भूल,
    खुद में खोये रहना..bahut achchha

    ReplyDelete