Saturday, 26 November 2011

कशमकश से गुज़र रही हूँ मैं..... !!!


अज़ब जिन्दगी की कशमकश से गुज़र रही हूँ मैं,
जो हो रहा है वो समय की नियति है,
उसे रोक भी नही सकती....
जिसे पाने की सारी उम्मीदे खत्म हो चुकी है,
फिर भी उसी का इंतज़ार कर रही हूँ मैं.....


सपने सारे टूट चुके है, 
दर्द हद से गुज़र चूका है,
होटों पे मुस्कान लिए,
सब कुछ होते देख रही हूँ मैं.....
फिर भी उम्मीदों और आशाओं का हाथ थामे,
न जाने कहाँ चलती जा रही हूँ मैं,.
अज़ब जिन्दगी की कशमकश से गुज़र रही हूँ मैं......


दिल और दिमाग की जंग में 
जीत हर बार दिल की हो रही है......
हकीकत  को बूरा ख्वाब मान कर,
ख्वाबो में जी रही हूँ मैं.......आजकल, 
अज़ब जिन्दगी की कशमकश से गुज़र रही हूँ मैं..... 



71 comments:

  1. बहुत रोचक और सुंदर प्रस्तुति.। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  2. दिल और दिमाग की जंग में
    जीत हर बार दिल की हो रही है......
    हकीकत को बूरा ख्वाब मान कर,
    ख्वाबो में जी रही हूँ मैं.....


    बेहद सुंदर प्रस्तुति ....सच में जब जीवन में ऐसा समय आता है तो हार दिमाग की और जीत दिल की होती है ...!

    ReplyDelete
  3. जब हकीकत बुरी हो तो उसे बुरे ख्वाब की तरह भूलना अच्छा ..अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. ज़िन्दगी को साक्षी भाव से जी सकें तो बहुत अच्छा है...एक चलचित्र सी लगती है...जिसके हीरो हम हैं...

    ReplyDelete
  5. उम्‍मीद पर ही दुनिया कायम है....
    सुंदर रचना।
    गहरे भाव....

    ReplyDelete
  6. जिन्दगी की जुंग का खूबसूरत चित्रण किया है

    ReplyDelete
  7. दिल को छू लेने वाली रचना. दिल की जीत दर्द देती है और सुकून भी.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति,..
    ऐसी परिस्थतियो में आखिर में
    जीत दिल की ही होती है,//
    बेहतरीन रचना,..बधाई ..
    मेरे नए पोस्ट में आपका इंतज़ार है ...

    ReplyDelete
  9. तू क्यूँ व्यर्थ बैठ की रोती है...
    हर शाम की निश्चित ही सुबह होती है.....
    आशा का नाम ही तो भला जीवन है.....
    वही पग पग पे नए हौसले संजोती है.....

    मनोज

    ReplyDelete
  10. सुंदर रचना
    ढेरो सुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  11. सपने सारे टूट चुके है,
    दर्द हद से गुज़र चूका है,
    होटों पे मुस्कान लिए,
    सब कुछ होते देख रही हूँ मैं.....
    फिर भी उम्मीदों और आशाओं का हाथ थामे,
    न जाने कहाँ चलती जा रही हूँ मैं,.
    अज़ब जिन्दगी की कशमकश से गुज़र रही हूँ मैं......
    yah bhatkaav kabhi to khtm hoga..aasha rkhen..

    ReplyDelete
  12. दिल और दिमाग की जंग में
    जीत हर बार दिल की हो रही है......
    हकीकत को बूरा ख्वाब मान कर,
    ख्वाबो में जी रही हूँ मैं.......आजकल,
    अज़ब जिन्दगी की कशमकश से गुज़र रही हूँ मैं.....poori zindagi kashmakash me gujar jati hai

    ReplyDelete
  13. "दर्द हद से गुज़र चूका है,
    होटों पे मुस्कान लिए,
    सब कुछ होते देख रही हूँ मैं....."
    बहुत खूब..बेहद भावपूर्ण सुंदर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर ..परिस्थिति कैसी भी हो जीत .हौसले रखने वालो की ही होती है..

    ReplyDelete
  15. गज़ब की कशमकश :)

    ReplyDelete
  16. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल सोमवारीय चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  17. ये कश्मकश बड़ी यातना देता है...

    ReplyDelete
  18. इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  19. नशीली आँख में बादल का छाना
    तेरा आना है
    अकेली रात में नींदें उड़ाना
    तेरा आना है!

    ReplyDelete
  20. अच्छी रचना के लिए आपको बधाई । आप हमेशा सृजनरत रहें और मेरे ब्लॉग पर आपकी सादर उपस्थिति बनी रहे । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  21. दिल और दिमाग की जंग में
    जीत हर बार दिल की हो रही है......bahut khub...

    ReplyDelete
  22. दिल और दिमाग की जंग में
    जीत हर बार दिल की हो रही है......
    हकीकत को बूरा ख्वाब मान कर,
    ख्वाबो में जी रही हूँ मैं.......आजकल,
    अज़ब जिन्दगी की कशमकश से गुज़र रही हूँ मैं.....

    प्यार में ऐसा ही होता है. आपने दिल के भावो को शब्द दे दिया है.

    ReplyDelete
  23. दिल और दिमाग की जंग में
    जीत हर बार दिल की हो रही है....

    bhut sachhi rachna.......

    ReplyDelete
  24. Very nice poem! Thanks and God bless you!

    ReplyDelete
  25. फिर भी उम्मीदों और आशाओं का हाथ थामे,
    न जाने कहाँ चलती जा रही हूँ मैं,.

    .....आशावादी दृष्टिकोण और

    दिल की हर बार जीत होना ...मशीन से मनुष्य को अलग करता है

    ReplyDelete
  26. वाह बेहद खूबसूरत रचना

    आभार !!

    ReplyDelete
  27. बार बार पढ़कर भी दिल नहीं भरा !

    ReplyDelete
  28. सुषमा जी उम्मीद और आशाएं बहुत ही काम आती है ..आइये भरोसा रखें ...प्यारी कृति ..हिंदी बनाते समय शब्द पर ऐसे ध्यान रखें

    ..भ्रमर ५

    सपने सारे टूट चुके है,
    दर्द हद से गुज़र चुका है,
    होठों पे मुस्कान लिए,
    सब कुछ होते देख रही हूँ मैं..

    ReplyDelete
  29. खुद पे भरोसा होना जरुरी है

    सुन्दर शब्द संयोजन

    ReplyDelete
  30. उम्मीदों का दामन थामे, राही चलता चल तू जग में
    कुछ इक टूटेंगे रे सपने, चुभ भी जाते कांटे पग में


    सादर....

    ReplyDelete
  31. shushma ji , "kasmas se gujar rhi hoon main"

    behad khoob soorat lagee . apki rachana ne anubhutiyon ko jeevant kiya hai .

    ReplyDelete
  32. wahh
    apki is rachana ka jawab nahi...
    ati uttam or lajawab rachana hai..

    ReplyDelete
  33. सपने सारे टूट चुके है,
    दर्द हद से गुज़र चूका है,
    होटों पे मुस्कान लिए,
    सब कुछ होते देख रही हूँ मैं.....
    फिर भी उम्मीदों और आशाओं का हाथ थामे,
    न जाने कहाँ चलती जा रही हूँ मैं,.

    Behad hi khubsurat rachna hai ...!!

    ReplyDelete
  34. फिर भी उम्मीदों और आशाओं का हाथ थामे,
    न जाने कहाँ चलती जा रही हूँ मैं,.
    baht khub badhai

    ReplyDelete
  35. उम्मीद और आशा ही तो उबारे गी कशमकश से । सुंदर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  36. आशा और उम्मीद ही उबारेगी इस कशमकश से । सुंदर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  37. ऐसा तो बहुतों के साथ होता है .... आप इसे शब्दों में ढाल सकीं हैं..... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  38. सब कुछ खो कर भी जीना जहाँ मे, माना इतना भी आसान नही
    टूटे सपनों के दर्पन से हकीकत के रास्ते भी देखे है हमने...

    ReplyDelete
  39. आपका पोस्ट मन को प्रभावित करने में सार्थक रहा । बहुत अच्छी प्रस्तुति । मेर नए पोस्ट 'राही मासूम रजा' पर आकर मेरा मनोबल बढ़ाएं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  40. बहुत अच्छी भावनात्मक अभिव्यक्ति है...
    ह्रदय से बधाई.

    ReplyDelete
  41. हकीकत को बूरा ख्वाब मान कर,
    ख्वाबो में जी रही हूँ मैं.......आजकल,
    अज़ब जिन्दगी की कशमकश से गुज़र रही हूँ मैं.....

    बहुत अच्छी कशमकश प्रस्तुत की है आपने.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  42. गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने! हर एक पंक्तियाँ दिल को छू गई !

    ReplyDelete
  43. जीवन की हकीकत से घबरा कर हम जीवन के ख़्वाबों की खिड़की खोल लेते हैं. यह स्वाभाविक है. बहुत सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  44. गहन भावों की सुंदर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  45. बहुत अच्छी भावनात्मक अभिव्यक्ति है..

    ReplyDelete
  46. बहुत ही भावुक होकर लिखी गई अनुभूति में आशा की किरण साथ है, जगमाती सुबह जरूर आएगी.

    ReplyDelete
  47. रचना रचने के लिए .. अहसास बहुत जरूरी हैं !और वो आप के पास भरपूर है |सुंदर अहसास महसूस कराने के लिए के लिएअपनी रचना पर बधाई स्वीकारें | मेरे ब्लॉग पर मुझे मान-सम्मान देने के लिए .....
    खुश और स्वस्थ रहें !
    आशीर्वाद!

    ReplyDelete
  48. सुन्दर, भावपूर्ण प्रस्तुति !
    आभार !

    ReplyDelete
  49. May Ramji give u enuf strength so dat u may move ahead.... may da conspiracy of love nt ruin another lyf... take care

    ReplyDelete
  50. बहुत सुन्दर रचना पर जिंदगी से हार मानना अपने आप से हार मानना होगा इसलिए हिम्मत नहीं हारना बस ऐसे ही आगे बढते रहना |
    बहुत सुन्दर |

    ReplyDelete
  51. भावों की सुंदर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  52. शुभकामनायें स्वीकार करें ! !

    ReplyDelete
  53. बेहद खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  54. दिल और दिमाग की जंग में
    जीत हर बार दिल की हो रही है......
    हकीकत को बूरा ख्वाब मान कर,
    ख्वाबो में जी रही हूँ मैं.......आजकल,
    अज़ब जिन्दगी की कशमकश से गुज़र रही हूँ मैं.....

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ... कविता में एक लय है जो अंत तक बाँधी रखी रहती है .. और मन में एक अजीब से दर्द को जन्म दे रही है..

    विजय

    ReplyDelete
  55. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  56. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    बेहद खूबसूरत ...पोस्ट
    शुक्रिया ..इतना उम्दा लिखने के लिए !!

    ReplyDelete
  57. ये कशमकश से भारी जिन्दगी ......उफ़...खूबसूरत प्रस्तुति

    ReplyDelete
  58. इस कशमकश में जीवन बीत जाता है ... एहसास रह जाते हैं ...

    ReplyDelete
  59. इस पोस्ट के लिए धन्यवाद । मरे नए पोस्ट :साहिर लुधियानवी" पर आपका इंतजार रहेगा ।

    ReplyDelete