Sunday, 23 October 2011

वो दिया मैं खुद बन जाउंगी.....

अब की दिवाली कुछ ऐसे मनाऊंगी
अँधेरा रहे न किसी की जिन्दगी में...
वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,
अब के दिवाली ऐसी मनाऊंगी...

शत-शत नमन करती हूँ उन माता-पिता को,
जिन्होंने हमारी जिन्दगी को रोशन करने के लिए
खुद को  दिए की तरह जलाया है...
उनकी जिन्दगी में अँधेरा न रहे एक पल भी,
वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,
अब के दिवाली ऐसी  मनाऊंगी....                                      

बहुत प्यार देती हूँ उन भाई-बहनों को
जिनकी शरारतो से घर रोशन रहता है हमेशा 
उनकी जिन्दगी खुशियों से रोशन रहे हमेशा 
वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,
अब के दिवाली ऐसी मनाऊंगी.... 

यादे जुडी है उस घर से 
जिसने मुझे सम्हाला,अपना बनाया,
जिसकी दीवारों ने भी मुझसे बाते की है,
उस घर में कभी अँधेरा न हो,
दिया बन रौशनी मैं फैलाऊँगी 
वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,
अब के दिवाली ऐसी मनाऊंगी....

साथ रहे हमेशा उन सखियों का 
जिनके साथ हँसने-रोने के पल बीते है,
जिनसे अपने सपने भी बांटे है मैंने,
इन सखियों के साथ से यूँ ही
जिन्दगी रोशन करती जाऊंगी,
वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी...
अब के दिवाली ऐसी मनाऊंगी......

संजो कर रखूंगी हर उस याद,लम्हे,प्यार, 
ख्वाब को,जो जिन्दगी ने मुझे दिए है,
रिश्तो की महक,प्यार का एहसास से,
रोशन रहे मेरे अपनों की जिन्दगी 
रौशनी धूमिल न हो एक पल भी
वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,
अब के दिवाली ऐसी मनाऊंगी......


62 comments:

  1. संजो कर रखूंगी हर उस याद,लम्हे,प्यार,
    ख्वाब को,जो जिन्दगी ने मुझे दिए है,
    रिश्तो की महक,प्यार का एहसास से,
    रोशन रहे मेरे अपनों की जिन्दगी
    रौशनी धूमिल न हो एक पल भी
    वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,
    अब के दिवाली ऐसी मनाऊंगी......

    वो दीया आप ज़रूर बनना और यूं ही सब को रोशन करते रहना।

    आपको दीपावली की सपरिवार बहुत बहुत शुभकामनाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत प्यार देती हूँ उन भाई-बहनों को
    जिनकी शरारतो से घर रोशन रहता है हमेशा
    उनकी जिन्दगी खुशियों से रोशन रहे हमेशा
    वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,
    अब के दिवाली ऐसी मनाऊंगी.... very nice di...

    ReplyDelete
  3. शुभकामनाएं ||
    रचो रंगोली लाभ-शुभ, जले दिवाली दीप |
    माँ लक्ष्मी का आगमन, घर-आँगन रख लीप ||
    घर-आँगन रख लीप, करो स्वागत तैयारी |
    लेखक-कवि मजदूर, कृषक, नौकर व्यापारी |
    नहीं खेलना ताश, नशे की छोडो टोली |
    दो बच्चों का साथ, रचो मिलकर रंगोली ||

    ReplyDelete
  4. bhut khubsurat.....
    aap vo diya jrur bnna. kash ke har koi ek aisa hi diya bnne ki koshish kre, jisse ye puri duniya rosan ho jaye....

    ReplyDelete
  5. Bahut sunder ...
    diwali ki kardik subhkamnaye.

    ReplyDelete
  6. उपर वाले से यही दुआ है की आपकी ख्वाहिशें ज़रूर पूरी हो. दीपावली की हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  7. bahut hi sunder diwali ki rachna aapko dher si shubhkamnayein..............

    ReplyDelete
  8. man ke ehsason ka khubsurat shabd diye hai...
    sundar rachana...
    DEEPAWALI KI BAHUT SHUBHKAMANYEN...

    ReplyDelete
  9. आदरणीय महोदय
    बहुत बडी और महान सोच है आपकी दीवाली पर किसी के लिये दिया बनने का मतलब है संसार के उत्सव भरे माहौल के लिये खुद को कुर्वान करना। सचमुच बहुत महान विचार है ं

    सराहनीय है
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाऐं!!

    ReplyDelete
  10. बहुत ही खुबसूरत रचना...
    ईश्वर से प्रार्थना है आपको वो दीया बनाये जिसमे प्रेम और स्नेह की लौ सदैव प्रकाशमान रहे...

    ReplyDelete
  11. संजो कर रखूंगी हर उस याद,लम्हे,प्यार,
    ख्वाब को,जो जिन्दगी ने मुझे दिए है,
    रिश्तो की महक,प्यार का एहसास से,
    रोशन रहे मेरे अपनों की जिन्दगी
    रौशनी धूमिल न हो एक पल भी
    वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,
    अब के दिवाली ऐसी मनाऊंगी......

    बहुत मनभावन और प्रेमपूर्ण भावों से सजी आपकी यह रचना एक नया संसार रचने की तरफ प्रेरित करती है जहाँ सिर्फ और सिर्फ प्रेम और सहयोग हो .....काश ऐसा दीया बनने के बारे में सभी सोचते ....!

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...दीपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. सबको दीया ही बनने की जरूरत है ..
    सपरिवार आपको दीपावली की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  14. यही सच्‍ची दीपावली होगी।
    अच्‍छी भावनाएं।
    दुआ है कि आपकी सारी ख्‍वाहिशें और सारी उम्‍मीदें परवान चढें।
    दीप पर्व की शुभकामनाएं......

    ReplyDelete
  15. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 24-11-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  16. अब की दिवाली कुछ ऐसे मनाऊंगी
    अँधेरा रहे न किसी की जिन्दगी में...
    वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,
    अब के दिवाली ऐसी मनाऊंगी...

    वाह,क्या बात कही है.

    धनतेरस व दीपावली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  17. दीपावली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर... अपनेपन की सोच सदा बनी रहे ..... हार्दिक शुभकामनाएं ....

    ReplyDelete
  19. अँधेरा रहे न किसी की जिन्दगी में...
    वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,...

    कितनी सुन्दर कामना....
    सारथक चिंतन...
    आपको दीप पर्व की सपरिवार सादर शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर है पोस्ट|

    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर ख्याल्………दीपावली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  22. kya kahu kuch kaha nahi jaaye
    bin kahe bhi raha nahi jaaye
    kavita aisi likhi aapne
    baar baar padhe dil lalchaaye..
    aaapne khoobsoorat se naye shabd baandhe..
    mujhe theek kavita ye laage....
    ho mujhe theek kavita ye laage...
    ooooooo....


    manoj

    ReplyDelete
  23. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  24. रौशनी धूमिल न हो एक पल भी
    वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी
    सुन्दर संकल्प ..
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  25. बहुत खूब! बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  26. संजो कर रखूंगी हर उस याद,लम्हे,प्यार,
    ख्वाब को,जो जिन्दगी ने मुझे दिए है,
    रिश्तो की महक,प्यार का एहसास से,
    रोशन रहे मेरे अपनों की जिन्दगी
    रौशनी धूमिल न हो एक पल भी
    वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,
    अब के दिवाली ऐसी मनाऊंगी..

    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ!
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!
    chandankrpgcil.blogspot.com
    ekhidhun.blogspot.com
    dilkejajbat.blogspot.com
    पर कभी आइयेगा| मार्गदर्शन की अपेक्षा है|

    ReplyDelete
  27. बहुत ही खुबसूरत रचना...दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  28. वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी.....


    बहुत खूब .....

    शुभकामनाएं .....!1

    ReplyDelete
  29. दीप मय उजास फैलाती पोस्ट ,उजास ही उजास फैले चंहु ओर आपके,दिवाली मुबारक . खूब सूरत रचना .

    ReplyDelete
  30. सार्थक रचना, सुन्दर प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकारें.

    समय- समय पर मिली आपकी प्रतिक्रियाओं , शुभकामनाओं, मार्गदर्शन और समर्थन का आभारी हूँ.

    "शुभ दीपावली"
    ==========
    मंगलमय हो शुभ 'ज्योति पर्व ; जीवन पथ हो बाधा विहीन.
    परिजन, प्रियजन का मिले स्नेह, घर आयें नित खुशियाँ नवीन.
    -एस . एन. शुक्ल

    ReplyDelete
  31. प्रभावशाली प्रस्तुति
    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें….!

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    नई पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  32. अच्छी रचना, आपको दीपावली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  33. आपके पोस्ट पर आना बहुत अच्छा लगा । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । दीपावली की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  34. so nice bhavnaye simat kar sare sabdon me savar gayi aur ye pyari si kavita ban gyi......bahut hi pyre bhav hai aapke

    ReplyDelete
  35. यही सच्‍ची दीपावली होगी।
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  36. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  37. वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,
    bahot sunder......

    ReplyDelete
  38. Bahut khubsurat soch !shubkamnayen..

    ReplyDelete
  39. VO DEEAA MAIN KHUD BAN JAAUNGEE

    SUNDAR SRIJAN BADHAAYEE DEEPAAWALI KEE ,

    VARSK MANGALMAY HO .

    ReplyDelete
  40. बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति है आपकी.
    दीपावली,गोवर्धन व भैय्या दूज की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  41. सुंदर रचना,अच्छी सोच,बढिया लेखनी,लाजबाब प्रस्तुती ....बधाई ...

    ReplyDelete
  42. सरल भावों से रची संवेदनशील कृति
    आपको सपरिवार दीपावली व नववर्ष की शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  43. अब की दिवाली कुछ ऐसे मनाऊंगी
    अँधेरा रहे न किसी की जिन्दगी में...
    वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,
    अब के दिवाली ऐसी मनाऊंगी...

    शत-शत नमन

    ReplyDelete
  44. sundar kamna....deepavali ki shubhkamnayen...

    ReplyDelete
  45. वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,

    अब के दिवाली ऐसी मनाऊंगी.... Khoobsurat panktiyaan

    आओ इक दीप जला कर हम
    इक घर को रोशन कर डालें
    इक जीवन में ज्योति भर दें
    इक मन को रोशन कर डालें
    फिर दीप से दीप जलेंगे और
    यह जग रोशन हो जाएगा

    ReplyDelete
  46. दीपावली की हार्दिक बधाई......

    ReplyDelete
  47. बहुत सुन्दर कामना है आपकी, प्रभु जरुर पूरी करें.

    दीवाली की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  48. हदस की आग में जल के बताओ क्या मिला...
    जलना ही था तो चरागों की तरह जलते...

    बहुत खूब...जलो ऐसे की दूसरों को रोशनी मिल सके...

    ReplyDelete
  49. waah... bahut khoob...
    bahut hi sundar rachna...

    ReplyDelete
  50. साथ रहे हमेशा उन सखियों का
    जिनके साथ हँसने-रोने के पल बीते है,
    जिनसे अपने सपने भी बांटे है मैंने,
    इन सखियों के साथ से यूँ ही
    जिन्दगी रोशन करती जाऊंगी,
    वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी...
    अब के दिवाली ऐसी मनाऊंगी....


    कितना प्यारा लिखा है आपने सुषमा जी..
    पता है आप मेरे ब्लॉग का प्रथम कमेंटेटर है
    मै आपको कभी भूल नहीं सकता..
    बधाई हो...
    सदस्य बन रहा हू ..
    हो सके तो फिर से पधारे ...

    ReplyDelete
  51. आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेर नए पोस्ट "अपनी पीढ़ी को शब्द देना मामूली बात नही है " पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  52. सरल भावों से रची संवेदनशील प्रस्तुती.....!
    शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  53. bahut khoob....aise hi likhte rahein...

    ReplyDelete
  54. अब की दिवाली कुछ ऐसे मनाऊंगी
    अँधेरा रहे न किसी की जिन्दगी में...
    वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी,

    bahut hi pyaari rachna..
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  55. दिया बन रौशनी मैं फैलाऊँगी
    वो दिया मैं खुद बन जाऊंगी ।

    कितनी सुंदर कामना । दीवाली शुभ और मंगल रही होगी ।

    ReplyDelete
  56. vah Shushma ji kya khoob likha hai bahut achhi rachna hai . mujhe ye laine kahne yad aa gyeen .

    jindgi ke andheron se ld loonga main .
    Ak baati ki lv bn jlo to sahi .

    ReplyDelete