Tuesday, 27 September 2011

जिन्दगी चलने लगी...... !!

जब ठहरी सी लगी जिन्दगी,
तो घबरा कर मैं चलने लगी
जब भी हार कर थम गए कदम,
तो देखा जमी चलने लगी...

नजरो से दूर मंजिल ठहरी सी लग रही थी,
मैं जैसे ही बढ़ी मंजिल की तरफ 
तो देखा मंजिल भी चलने लगी...

मैं भाग रही थी जितनी भी,
अपनी परछाई से 
जा तो रही थी महफ़िल में,
पर देखा मेरे साथ
मेरी तन्हाई भी चलने लगी...

मैं भूलना चाहती थी,
अतीत की यादो को
छोड़ कर जैसे ही
इन यादो को आगे बढ़ी,
पर मुड कर देखा मेरे साथ,
यादे बन कर परछाई चलने लगी...

जब चल रहे थे सभी मेरे साथ,
मैं ठहर जाना चाहती थी
कुछ पल ही गुज़रे
तो देखा मैं ठहरी ही रही 
जिन्दगी चलने लगी.....!


54 comments:

  1. बहुत खूब लिखा है आपने...छू जाने वाली कविता!

    ReplyDelete
  2. बहुत ही खूबसूरत अहसास भरे हैं .......लाजवाब|

    ReplyDelete
  3. अच्छी लगी कविता .शक्ति-स्वरूपा माँ आपमें स्वयं अवस्थित हों .शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  4. यूँ ही चलती रहे जिंदगी , मंजिल मिल ही जाएगी .

    ReplyDelete
  5. ज़िंदगी चलती रहनी चाहिए ..अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. खूबसूरत अहसासो से भरी रचना...

    ReplyDelete
  7. सुभानाल्लाह..........बहुत ही खूबसूरत........

    ReplyDelete
  8. खुबसूरत रचना ..

    ReplyDelete
  9. मैं भूलना चाहती थी,
    अतीत की यादो को
    छोड़ कर जैसे ही
    इन यादो को आगे बढ़ी,
    पर मुड कर देखा मेरे साथ,
    यादे बन कर परछाई चलने लगी..

    यादों से पीछा छुड़ाना बहुत मुश्किल होता है।
    बहुत ही अच्छी कविता।

    नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  10. जा तो रही थी महफ़िल में,
    पर देखा मेरे साथ
    मेरी तन्हाई भी चलने लगी...
    kya baat hain :D bahut khoob

    ReplyDelete
  11. ये जिंदगी चलने का ही नाम है ... और चलते ही रहना चाहिए ... लाजवाब लिखा है ...

    ReplyDelete
  12. बहुत ... बहुत खुबसूरत भाव संजोयें है...

    ReplyDelete
  13. मैं भाग रही थी जितनी भी,
    अपनी परछाई से
    जा तो रही थी महफ़िल में,
    पर देखा मेरे साथ
    मेरी तन्हाई भी चलने लगी...ye saath nahi chhodti

    ReplyDelete
  14. निरंतर चलना ही शायद ज़िंदगी का असल है...रूकना तो मौत की निशानी है.....शब्दों में छुपे अर्थ को बेहतरीन तरीके से उकेरा है आपने...साधूवाद....

    ReplyDelete
  15. जब ठहरी सी लगी जिन्दगी,
    तो घबरा कर मैं चलने लगी
    जब भी हार कर थम गए कदम,
    तो देखा जमी चलने लगी...
    aisa hota kabhi kabhi jab thakne ke baad bhi aisa lagta hai ki chal rahe hai...aur yah ehsaas sukhad hota hai...

    ReplyDelete
  16. मैं भूलना चाहती थी,
    अतीत की यादो को
    छोड़ कर जैसे ही
    इन यादो को आगे बढ़ी,
    पर मुड कर देखा मेरे साथ,
    यादे बन कर परछाई चलने लगी...
    .very nice thinking shushma .....

    ReplyDelete
  17. बहुत खुबसूरत रचना.... आपको नवरात्रि की बधाई... मां आपको हमेशा खुश रखें.....

    ReplyDelete
  18. बहुत बढ़िया....आपकी यादो का ये सफ़र ......बेहतरीन

    ReplyDelete
  19. बहुत खूबसूरत रचना , सुन्दर भाव ,बधाई

    ReplyDelete
  20. हम चलें या न चलें जिन्दगी तो चलती ही रहेगी । बहुत सुन्दर कविता ।
    नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  21. खुबसूरत रचना ..
    यादो का सफर सुन्दर सफर

    ReplyDelete
  22. दुनिया रुपी इस भंवर में........कौन है किसका मीत.....
    हर कोई है गा रहा...........सिर्फ उसी का गीत......
    सिर्फ उसी का गीत............है फैला इक सन्नाटा....
    हर कोई खुद को ही बेहतर .....खुद ही बताता...
    कह मनोज कि आपने ..........पाया बड़ा नसीब...
    हर पल कोई खास तो........रहता पास करीब....

    ReplyDelete
  23. ज़िन्दगी रुकती नहीं.
    ज़िन्दगी थमती नहीं.

    बढ़िया नज़्म.

    ReplyDelete
  24. मैं भूलना चाहती थी,
    अतीत की यादो को
    छोड़ कर जैसे ही
    इन यादो को आगे बढ़ी,
    पर मुड कर देखा मेरे साथ,
    यादे बन कर परछाई चलने लगी...बिलकुल सही कहा सुषमा....यादें कभी पीछा नहीं छोडती .

    ReplyDelete
  25. जब चल रहे थे सभी मेरे साथ,
    मैं ठहर जाना चाहती थी
    कुछ पल ही गुज़रे
    तो देखा मैं ठहरी ही रही
    जिन्दगी चलने लगी.....!

    जिन्दगी का चलना बहुत सुंदर बन पड़ा है ....हर किसी की जिन्दगी में अलग-अलग परिस्थितियाँ होती हैं, लेकिन हार कर बैठना कहाँ सही है ...इसलिए जिन्दगी चलती रहे तो बेहतर है .....!

    ReplyDelete
  26. जिन्दगी से आगे तो बढ़ा नहीं जा सकता... साथ चल सकें तो अच्छा...
    वैसे महामानवों के बारे में मैं कुछ नहीं कह सकता... शायद...

    ReplyDelete
  27. तो देखा मैं ठहरी ही रही
    जिन्दगी चलने लगी.....!

    beautiful

    ReplyDelete
  28. बहुत ही गहन भाव युक्त रचना जिंदगी चलते जाने का नाम ही है ...सादर !!!

    ReplyDelete
  29. मैं भूलना चाहती थी,
    अतीत की यादो को
    छोड़ कर जैसे ही
    इन यादो को आगे बढ़ी,
    पर मुड कर देखा मेरे साथ,
    यादे बन कर परछाई चलने लगी...
    bhut acha.

    ReplyDelete
  30. मुझे आपका ब्लॉग बहुत पसंद आया. लिखते रहिये और खुश रहिये!!

    ReplyDelete
  31. बहुत भावपूर्ण रचना |
    बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  32. खूबसूरत अहसास ........

    ReplyDelete
  33. प्रिय सुषमा जी बहुत खूब ...जब दम भर लीजिये रास्ता बन जाता है सुन्दर सन्देश ...जय माता दी आप सपरिवार को ढेर सारी शुभ कामनाएं नवरात्रि पर -माँ दुर्गा असीम सुख शांति प्रदान करें
    भ्रमर ५

    जा तो रही थी महफ़िल में,
    पर देखा मेरे साथ
    मेरी तन्हाई भी चलने लगी...

    ReplyDelete
  34. प्रिय सुषमा जी बहुत खूब ...जब दम भर लीजिये रास्ता बन जाता है सुन्दर सन्देश ...जय माता दी आप सपरिवार को ढेर सारी शुभ कामनाएं नवरात्रि पर -माँ दुर्गा असीम सुख शांति प्रदान करें
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  35. Fantastic read !!
    u have a lovely blog :)

    ReplyDelete
  36. जब ठहरी सी लगी जिन्दगी,
    तो घबरा कर मैं चलने लगी
    जब भी हार कर थम गए कदम,
    तो देखा जमी चलने लगी...


    बहुत ही अच्‍छी रचना ।

    ReplyDelete
  37. zindgi yun hin guzar jaati hai...
    जब चल रहे थे सभी मेरे साथ,
    मैं ठहर जाना चाहती थी
    कुछ पल ही गुज़रे
    तो देखा मैं ठहरी ही रही
    जिन्दगी चलने लगी.....!
    sundar abhivyakti, badhai.

    ReplyDelete
  38. जिंदगी ऐसी ही है. सुंदर भावनात्मक प्रस्तुति.

    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  39. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  40. जब चल रहे थे सभी मेरे साथ,
    मैं ठहर जाना चाहती थी
    कुछ पल ही गुज़रे
    तो देखा मैं ठहरी ही रही
    जिन्दगी चलने लगी.....!
    वाह ...जिन्‍दगी का चलना और साथ होना अपनों का कभी तनहाई का ...बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  41. बहुत खूब ! एक उम्दा रचना के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  42. जब चल रहे थे सभी मेरे साथ,
    मैं ठहर जाना चाहती थी
    कुछ पल ही गुज़रे
    तो देखा मैं ठहरी ही रही
    जिन्दगी चलने लगी.....!

    .....बहुत सुन्दर अहसास और उनकी लाज़वाब अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  43. एक अच्छी प्रस्तुति के लिए आभार । मेरे पोस्ट पर भी आएं ।
    धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  44. विजय दशमी की हार्दिक बधाई ...

    ReplyDelete
  45. bahut khoob....

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  46. जमी, मंजिल, तन्हाई, परछाई....
    inko aap jaise shabdo ke chalak bada hi khoob chala sakte hain...

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete