Tuesday, 20 September 2011

फिर खोई सी थी......!!!


छत पर बैठी तन्हा,                                  
खोई-खोई सी थी,
वो कुछ न बोली,
उसकी आखें बोल रही थी,
वो रात भर नही सोयी थी..
एक टक कर रही इंतजार,
किसी अपने का 
वो नही आया टुटा उसका भ्रम,
वो बहुत रोई थी, 
आंसुओ में अपने दर्द को,
बहा दिया था उसने 
फिर गुमसुम बैठी सोच रही थी 
उस पल को जो बीत गया था,
क्या खोया?क्या पाया?
फिर इसमें उलझी,फिर खोई सी थी......

53 comments:

  1. उस एक पल में कितने विचार आते हैं , कितने सो जाते हैं .... जो ठहर गया , वही स्वतंत्र उपलब्द्धि है

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  3. बहुत ही भावनात्मक रचना ...

    ReplyDelete
  4. जी |
    गंभीर मामला |
    सहानुभूति है ऐसे किरदार से ||

    ReplyDelete
  5. मैने आपका ब्‍लोग देखा बहुत अच्‍छा लगा । आपकी भावपूर्ण और संवेदनात्‍मक अभिव्‍य‍क्ति मन को छू जाती है । मेरी हार्दिक शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  6. गहन और सुन्दर अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  7. संवेदनशील रचना बधाई ......

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  9. ab khoye se rah kar baki kya bacha hai khone ko . aur jo khoye rah kar khoye ja rahe ho use to khone se bachao. :)

    sunder prastuti.

    ReplyDelete
  10. sunder bhav ki sunder bhivyakti........

    ReplyDelete
  11. क्या किया जाए..सभी के जीवन में ऐसे पल आते हैं कि किसी की प्रतीक्षा करो और वो नहीं आता..पर भ्रम का टूटना बेहतर है एक बार..सारी उम्र पाले रहने से

    ReplyDelete
  12. bhuat sundar

    vikasgarg23.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. इस उलझन से जो निकल पाया उसी का जीवन सार्थक है

    ReplyDelete
  14. नई पुरानी हलचल से यहाँ आये थे
    कुछ उलझ गए 'फिर खोई सी थी ' में

    कुछ सुलझे तो दिल से निकल
    रहा है आभार,आभार आपकी इस
    भावपूर्ण प्रस्तुति के लिए.

    मेरा ब्लॉग आपके दर्शनों का उत्सुक है ,सुषमा जी.

    ReplyDelete
  15. बेहतरीन लेकिन मार्मिक तन्हाई...
    वाह-वाह...

    ReplyDelete
  16. बहुत ही अच्‍छी रचना ।

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति।

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर हृदयस्पर्शी भावाभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  19. Viyog ka uttam drashya dikhta hai

    ReplyDelete
  20. अतीत सिवाय दर्द के और कुछ नहीं देता |

    ReplyDelete
  21. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है.
    कृपया पधारें
    चर्चामंच-645,चर्चाकार- दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  22. सुन्दर भावाव्यक्ति।

    ReplyDelete
  23. बढ़िया भाव, सुन्दर संयोजन. अर्थपूर्ण अभिव्यक्ति....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  24. ये उलझन बनी ही रहेगी....

    ReplyDelete
  25. स्वप्निल सपने ... सुखद अनुभव

    ReplyDelete
  26. क्या खोया?क्या पाया?

    इसका हिसाब लगा पाना बहुत मुश्किल है

    ReplyDelete
  27. भावनात्मक रचना .......

    ReplyDelete
  28. मन को झकझोर गयी आपकी रचना का अदाज बहुत ही अच्छा लगा ।

    ReplyDelete
  29. सुँदर भाव, सुँदर शब्द और सुन्दरतम कविता .

    ReplyDelete
  30. आपने लिखा , छत पर बैठी थी....... फिर चित्र समुन्द्र किनारे बैठी युवती का क्यों चयन किया....???

    बाकी रचना बेहतरीन है.....

    ReplyDelete
  31. जाने क्या सोच कर नहीं गुजरा , एक पल रात भर नहीं गुजरा ...

    ReplyDelete
  32. एक उम्दा रचना.... बधाई...

    आकर्षण

    ReplyDelete
  33. आपको मेरी तरफ से नवरात्री की ढेरों शुभकामनाएं.. माता सबों को खुश और आबाद रखे..
    जय माता दी..

    ReplyDelete




  34. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete