Thursday, 11 August 2011

आज़ाद हर इक दिन होगा... !!!


आज़ादी कह देने से या कोई इक दिन
आजादी का जशन मना लेने से
ना ये देश आज़ाद होगा
हम कितने आज़ाद है
इस आजादी के बाद
अब इसका हिसाब होगा.

आजादी को कोई एक दिन, एक शब्द में
न बताना अब पर्याप्त होगा
आज़ाद तो हम तब होगे
जब हर शख्स की आँखों का
पूरा हर एक ख्वाब होगा

दिलाई है आजादी हमको
जिन शहीदों ने
उनके हम ऋणी है
ये कहना न अब पर्याप्त होगा
जाति-पाति,भेदभाव,ऊच-नीच
के बन्धनों से जब हम आज़ाद होगे
तब सफल इनका बलिदान होगा..

करते है आज संकल्प
तन से तो हो गए हम आज़ाद
अब मन को भी करना
आज़ाद होगा...

अगर एक साथ मिलकर
हम खड़े हो जाए
पूरी दुनिया को हमारी शक्ति पर
विश्वास होगा..

दायरा अगर अपनी सोच का
आसमां से भी कर दे ऊँचा 
इक  दिन ही नही आज़ाद
आज़ाद हर इक दिन होगा... !!!

53 comments:

  1. सुंदर अभिव्यक्ति भावों की ..
    शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  2. bahut sunder bhav............

    ReplyDelete
  3. सुन्दर और सार्थक रचना . जय हिंद. वन्देमातरम .

    ReplyDelete
  4. काश!!!आपकी तरह सभी सोचें..
    अतिसुन्दर, संदेशात्मक रचना..

    ReplyDelete
  5. jai hind jai bharat sushma ji aabhar

    ReplyDelete
  6. Sushma mam sach kahun to bahut hi achi rachna hai, jab se bloging kar raha hun tab se ye dusri rachna hai jo mujhe bahut hi sarthak or purn lagi........
    Ham tan se to aajad h gaye hain par man se nahi.... Vande matram,,,
    jai hind jai bharatSushma mam sach kahun to bahut hi achi rachna hai, jab se bloging kar raha hun tab se ye dusri rachna hai jo mujhe bahut hi sarthak or purn lagi........
    Ham tan se to aajad h gaye hain par man se nahi.... Vande matram,,,
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  7. अगर एक साथ मिलकर
    हम खड़े हो जाए
    पूरी दुनिया को हमारी शक्ति पर
    विश्वास होगा..

    प्रेरणास्पद रचना ....जय हिंद

    ReplyDelete
  8. सारे जाहाँ से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा...
    सुन्दर और सार्थक रचना .... जय हिन्द जय भारत...

    ReplyDelete
  9. सुन्दर और सामायिक पोस्ट........

    ReplyDelete
  10. बहुत खुबसूरत अभिवयक्ति की है आपने.....

    ReplyDelete
  11. आजादी को कोई एक दिन, एक शब्द में
    न बताना अब पर्याप्त होगा
    आज़ाद तो हम तब होगे
    जब हर शख्स की आँखों का
    पूरा हर एक ख्वाब होगा

    ....बहुत सारगर्भित और प्रेरक रचना...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  12. आज़ाद तो हम तब होगे
    जब हर शख्स की आँखों का
    पूरा हर एक ख्वाब होगा- अति सुन्दर भाव !

    ReplyDelete
  13. अभी सच्ची आज़ादी से हम दूर है . सुँदर रचना

    ReplyDelete
  14. जय हिंद. वन्देमातरम .

    ReplyDelete
  15. रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस के पावन पर्वों की हार्दिक मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छी प्रस्तुति है!
    रक्षाबन्धन के पावन पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  17. सभी को उस सच्छी आज़ादी की प्रतीक्षा है ... कभी तो आयगी ... बस संकल्प की जरूरत है ...

    ReplyDelete
  18. अगर एक साथ मिलकर
    हम खड़े हो जाए
    पूरी दुनिया को हमारी शक्ति पर
    विश्वास होगा.

    Bilkul sahi farmaaya hai aapne. Sundar rachna, Happy independence day.

    ReplyDelete
  19. kaash 1947 main mili azadi "dhangg" ki mili hoti
    :'( :'(

    ReplyDelete
  20. प्रेरित करती एक सुन्दर रचना। आभार।

    ReplyDelete
  21. सार्थक रचना .......

    ReplyDelete
  22. दायरा अगर अपनी सोच का
    आसमां से भी कर दे उचाँ
    इक दिन ही नही आज़ाद
    आज़ाद हर इक दिन होगा.

    preranatamak prastuti..........thanks.

    ReplyDelete
  23. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 15-08-2011 को चर्चा मंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  24. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 15-08-2011 को चर्चा मंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  25. अगर एक साथ मिलकर
    हम खड़े हो जाए
    पूरी दुनिया को हमारी शक्ति पर
    विश्वास होगा..

    सच कहा.....सुंदर पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  26. सुंदर कविता....स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें ..जय हिंद

    ReplyDelete
  27. सुन्दर प्रस्तुति.
    स्वतन्त्रता दिवस की शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  28. सुंदर और सार्थक प्रस्तुति... स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  29. स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  30. सुन्दर और सार्थक रचना!
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  31. सारगर्भित और प्रेरक रचना. बहुत सुन्दर.

    स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  32. सुषमा जी बहुत सुन्दर... सच में आजादी तो हमें नाम की ही मिली ..कल फिर एक आजादी की जंग शुरू होने जा रही आइये सब मिल इसमें शिरकत करें ..एक साथ जोर लगायें ..निम्न पंक्ति प्यारी
    भ्रमर ५
    आजादी को कोई एक दिन, एक शब्द में
    न बताना अब पर्याप्त होगा
    आज़ाद तो हम तब होगे
    जब हर शख्स की आँखों का
    पूरा हर एक ख्वाब होगा

    ReplyDelete
  33. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  34. ek din jarur sab sach hoga
    sunder kavita
    rachana

    ReplyDelete
  35. करते है आज संकल्प
    तन से तो हो गए हम आज़ाद
    अब मन को भी करना
    आज़ाद होगा...
    सच्ची बात कही आपने सार्थक रचना के माध्यम से...
    राष्ट्र पर्व पर सादर बधाइयां

    ReplyDelete
  36. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  37. आप को बहुत बहुत धन्यवाद की आपने मेरे ब्लॉग पे आने के लिये अपना किमती समय निकला
    और अपने विचारो से मुझे अवगत करवाया मैं आशा करता हु की आगे भी आपका योगदान मिलता रहेगा
    बस आप से १ ही शिकायत है की मैं अपनी हर पोस्ट आप तक पहुचना चाहता हु पर अभी तक आप ने मेरे ब्लॉग का अनुसरण या मैं कहू की मेरे ब्लॉग के नियमित सदस्य नहीं है जो में आप से आशा करता हु की आप मेरी इस मन की समस्या का निवारण करेगे
    आपका ब्लॉग साथी
    दिनेश पारीक
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/

    ReplyDelete
  38. It's great stuff. I enjoyed to read this blog. Each and every day your blog having some wonderful informations.

    ReplyDelete
  39. खूबसूरत ज़ज्बे और जोश का गीत भाव का उदगार का शुभेच्छा का ज्वार लिए .
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    मंगलवार, १६ अगस्त २०११
    पन्द्रह मिनिट कसरत करने से भी सेहत की बंद खिड़की खुल जाती है .
    . August 16, 2011
    उठो नौजवानों सोने के दिन गए ......http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    सोमवार, १५ अगस्त २०११
    संविधान जिन्होनें पढ़ लिया है (दूसरी किश्त ).
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    मंगलवार, १६ अगस्त २०११
    त्रि -मूर्ती से तीन सवाल .

    ReplyDelete
  40. bahut hi jabardast likhaa hai...bahut hi accha khyaal hai aur honsla v

    ReplyDelete
  41. दायरा अगर अपनी सोच का
    आसमां से भी कर दे ऊँचा
    इक दिन ही नही आज़ाद
    आज़ाद हर इक दिन होगा.

    पूरी रचना सही मायनो में आजादी को बयां करती है...

    http://naiqalam.blogspot.com

    ReplyDelete
  42. बात एकदम दुरुस्त है....अगर दिल मं ये चीजें रहें तो जश्ने आज़ादी का दिन बेहतर हो जाए....

    ReplyDelete
  43. नमस्कार....
    बहुत ही सुन्दर लेख है आपकी बधाई स्वीकार करें
    मैं आपके ब्लाग का फालोवर हूँ क्या आपको नहीं लगता की आपको भी मेरे ब्लाग में आकर अपनी सदस्यता का समावेश करना चाहिए मुझे बहुत प्रसन्नता होगी जब आप मेरे ब्लाग पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएँगे तो आपकी आगमन की आशा में पलकें बिछाए........
    आपका ब्लागर मित्र
    नीलकमल वैष्णव "अनिश"

    इस लिंक के द्वारा आप मेरे ब्लाग तक पहुँच सकते हैं धन्यवाद्

    1- MITRA-MADHUR: ज्ञान की कुंजी ......

    2- BINDAAS_BAATEN: रक्तदान ...... नीलकमल वैष्णव

    3- http://neelkamal5545.blogspot.com

    ReplyDelete
  44. काश की सब मिल के एक साथ खड़े हो सकते आज़ादी के दिन ... बहुत प्रभावी रचना है ... अच्छी सीख और सोच लिए ...

    ReplyDelete
  45. सुन्दर संवेदनशील अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  46. इस दौर में सात्विक सौन्दर्य भारतीय ऊर्जस्विता के प्रतीक बने हुएँ हैं अन्नाजी ..अन्ना देख रहे खिड़की से,
    दुबक रहे राजा व कलमाड़ी,
    धक्का मार रहे सब नेता,
    कीचड़ में फंसी सत्ता की गाड़ी . अन्ना के हैं आदमी चार ,जिनसे डरती है सरकार ..

    दायरा अगर अपनी सोच का
    आसमां से भी कर दे ऊँचा
    इक दिन ही नही आज़ाद
    आज़ाद हर इक दिन होगा... !!!सुषमा जी खूबसूरत आश्वस्त करती हुई रचना ,बधाई .शुक्रिया आपकी बहुमूल्य टिप्पणी के लिए .
    सार्थक टिप्पणी के लिए ..http://veerubhai1947.blogspot.com/http://veerubhai1947.blogspot.com/
    मंगलवार, १६ अगस्त २०११
    पन्द्रह मिनिट कसरत करने से भी सेहत की बंद खिड़की खुल जाती है .
    Thursday, August 18, 2011
    Will you have a heart attack?
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    ReplyDelete
  47. आज़ादी की सही व्याखा समाहित है आपकी रचना में !

    ReplyDelete
  48. बिल्कुल सच्ची बात कही आपने...जीवन में एक स्वतंत्र कामना रखने वालों के लिए यह प्रयास ज़रूरी है...सुंदर रचना के लिए बधाई

    ReplyDelete
  49. दायरा अगर अपनी सोच का
    आसमां से भी कर दे ऊँचा
    इक दिन ही नही आज़ाद
    आज़ाद हर इक दिन होगा... !!!
    वाह क्या बात कही है ये बात सच है अगर हम अपनी सोच विस्तार बढाकर सकारत्मक कर दें तो हम सच में आज़ाद हो जायेंगे |
    बहुत सुन्दर रचना |

    ReplyDelete
  50. Bahut acchhe vichar vyakat kiye hain aapne.. Sachmuch aajadi ke mayne wahi hote hain, jo aaapne likhe hain.. Aabhar...

    ReplyDelete