Monday, 25 July 2011

जो मैने अभी लिखा नही..!!

मैने लिखा है,
बहुत कुछ, जिंदगी,प्यार,मिलना-बिछड़ना ,
सब ही लिख दिया..
फिर भी बहुत कुछ है ऐसा मेरे दिल मेँ,
जो मैने अभी लिखा नही..!!

मैने लिखी है,
समंदर की गहराई,पर्वत की ऊँचाई,
लहरे भी कुछ कहती है...
जो मैने अभी लिखा नही...!

मैने लिखा है,
मौसम की बहार को,सुदंरता और सिंगार को,
पतझङ भी कुछ कहता है.. 
जो मैने अभी लिखा नही ...!

मैने लिखा है,
दिल को अरमानो को,होठो पर बिखरी मुस्कान को,
आँखो की उदासी भी कुछ कहती है..
जो मैने अभी लिखा नही...!

मैने लिखा है,
तेरी मेरी उन बातो को,उन अहसासो और जज़बातो को,
ख़ामोशी भी कुछ कहती थी...
जो मैने अभी लिखा नही!

मैने लिखा है,
कविताओं को,मन के भावो को,
फिर भी लगता है कि बहुत कुछ ऐसा है मेरे दिल मेँ
जो मैने अभी लिखा नही..!!
और शायद मैं कभी लिख भी न  पाउंगी...!!

63 comments:

  1. ek anlikha rah jata hai , .... wah likha hota hai khamosh pannon per ...khamosh panne jo phadphadate nahin , khamosh lafz jo dil ko chhute hain ... ek khamosh ankaha jo shuny me bolta hai

    ReplyDelete
  2. mam bahut hi gahari rachnna likhi hai,,,,
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  3. kuchh bhav kabhi pure likhe hi nahin jate ...hamesha adhure se hi lagte hain.......

    sundar post....


    aadar sahit

    ReplyDelete
  4. कल 27/07/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. bahoot khoob :)
    :clap: :clap:
    zindagi mai har cheez kalam mai piroyi nahi ja sakti :)

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत बधाई ||

    ReplyDelete
  7. मैने लिखा है,
    दिल को अरमानो को,होठो पर बिखरी मुस्कान को,
    आँखो की उदासी भी कुछ कहती है..
    जो मैने अभी लिखा नही...!

    kya baat hai!

    ReplyDelete
  8. Awesome Sushma.......
    Aisa bahut kuchh hai jo maine abhi likha nahi ;)

    ReplyDelete
  9. vah keya baat hai, abhut hi sundar
    मैने लिखा है,
    कविताओं को,मन के भावो को,
    फिर भी लगता है कि बहुत कुछ ऐसा है मेरे दिल मेँ
    जो मैने अभी लिखा नही..!!
    aacha laga

    ReplyDelete
  10. मैने लिखा है,
    तेरी मेरी उन बातो को,उन अहसासो और जज्बातो को,
    ख़ामोशी भी कुछ कहती थी...
    जो मैने अभी लिखा नही!

    बहुत सुन्दर, बहुत कोमल भावाभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  12. बहुत कुछ ऐसा होता है जो इंसान अपने आप से भी नहीं बांटना चाहता ... सुन्दर अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  13. मैने लिखा है,
    कविताओं को,मन के भावो को,
    फिर भी लगता है कि बहुत कुछ ऐसा है मेरे दिल मेँ
    जो मैने अभी लिखा नही.......बहुत सुन्दर ,अभी बहुत कुछ लिखना बांकी है >

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर शब्द ..सुन्दर भाव .

    ReplyDelete
  15. आँखो की उदासी भी कुछ कहती है..
    जो मैने अभी लिखा नही...!

    बहुत सुन्दर
    सादर

    ReplyDelete
  16. प्रिय सुषमा आहुति जी हार्दिक अभिवादन -आँखों की उदासी को भी लिख डालिए उसे मत रोकिये -दर्द व्यथा बाहर निकल जाये तो सुकून मिलता है .मन हल्का ..
    सुन्दर रचना -सुन्दर भाव
    शुक्ल भ्रमर ५
    भ्रमर का दर्द और दर्पण

    मैने लिखा है,
    दिल को अरमानो को,होठो पर बिखरी मुस्कान को,
    आँखो की उदासी भी कुछ कहती है..
    जो मैने अभी लिखा नही...!

    ReplyDelete
  17. are...kyun nhi likh paengi aap...jarur likhengi ..aur hum sab padhenge bhi.........bahut sudar rachana likhi hai ...dil ke gaehre bhaab jhalak rahe hai..........badhai

    ReplyDelete
  18. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  19. फिर भी लगता है कि बहुत कुछ ऐसा है मेरे दिल मेँ
    जो मैने अभी लिखा नही..!!

    ये ऐसी प्यास है जो जितना पियो उतना ही बढ़ाती जाती है / बहुत सुन्दर प्रस्तुति , बधाई

    ReplyDelete
  20. अभी बहुत कुछ बाकी है लिखना ... अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  21. bahut sundar.............badhiyaa!

    ReplyDelete
  22. रूमानी जज्‍बों की शानदार अभिव्‍यक्ति।

    सचमुच, दिल की सारी बातें कह लिख पाता है कोई।

    .......
    प्रेम एक दलदल है..
    ’चोंच में आकाश’ समा लेने की जिद।

    ReplyDelete
  23. खुदा आपको कुवत दे की आप हमेशा लिखती रहें.......आमीन|

    ReplyDelete
  24. वाह.. क्या कहने। बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना।

    बधाई

    ReplyDelete
  25. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.

    ReplyDelete
  26. Sadar Pradam,
    bas ek bat hi kahna chahunga....
    sagar si vishal hi ye rachna...


    Abhar

    ReplyDelete
  27. देखो इस प्यास को बरक़रार रखना कि मैंने अभी कुछ लिखा नहीं और ऐसे ही लिखते रहना हम दुआ करेंगे कि तुम्हारी कलम लिखती रहे और तुम ये कहो ...........कि मैंने तो अभी कुछ लिखा नहीं :)
    बहुत खूबसूरत रचना |

    ReplyDelete
  28. मैने लिखा है,
    बहुत कुछ, जिंदगी,प्यार,मिलना-बिछड़ना ,
    सब ही लिख दिया..
    फिर भी बहुत कुछ है ऐसा मेरे दिल मेँ,
    जो मैने अभी लिखा नही..!!

    LIKH HI DALTE?? WO SAB KUCHH:)

    BAHUT PYARI SI ABHIVYAKTI!!

    ReplyDelete
  29. कविहृदय की कसक को उकेरती भावपूर्ण रचना ........
    यही 'जो नहीं लिखा जा सकता' ही तो सब कुछ लिखवाता है !

    ReplyDelete
  30. खूब ..सब कुछ शब्दों में कहाँ समेटा जा सकता है....

    ReplyDelete
  31. आपने बहुत सही लिखा है, पर अंत में आगे नहीं लिखने का प्रण सही प्रतीत नहीं होता. लिखना जरी रखिये , कृपया.
    --------------------------------
    आंसू

    ReplyDelete
  32. मैने लिखी है,
    समंदर की गहराई,पर्वत की ऊँचाई,
    लहरे भी कुछ कहती है...
    जो मैने अभी लिखा नही...!

    ReplyDelete
  33. ji nahi likha vahi to likhne ki prerna deta hai aapne bahut sunder bhavon ko piro ke ye mala banai hai
    bahut bahut badhai
    rachana

    ReplyDelete
  34. आपने बहुत सुन्दर रचना प्रस्तुत की है.... आभार..

    मैने अभी लिखा नहीं, जो मन की आँखों को दिखा नही..
    मैं ढूढ रही उस लम्हे को, जो अधियारों मे छुपा कहीं..
    Suresh Kumar
    http://sureshilpi-ranjan.blogspot.com

    ReplyDelete
  35. आपकी सभी रचनाये बहुत सुंदर है और अभिव्यक्ति और कल्पना ज्ञान का भरपूर उपयोग किया है. बहुत दिनों बाद आँखों को किसी ब्लॉग की सुंदरता देखकर सकूँ मिला है. कई रचनाये पढकर मन भी प्रसन्न हो गया है.

    कभी समय निकालकर नाचीज़ के ब्लोगों पर नज़र-ए-इनायत करें.

    मेरे "सिरफिरा-आजाद पंछी"http://sirfiraa.blogspot.com "रमेश कुमार सिरफिरा"http://rksirfiraa.blogspot.com सच्चा दोस्त http://sachchadost.blogspot.com आपकी शायरी http://aap-ki-shayari.blogspot.com मुबारकबाद http://mubarakbad.blogspot.com आपको मुबारक हो http://aapkomubarakho.blogspot.com शकुन्तला प्रेस ऑफ इंडिया प्रकाशन http://shakuntalapress.blogspot.com सच का सामना(आत्मकथा)http://sach-ka-saamana.blogspot.com तीर्थंकर महावीर स्वामी जी http://tirthnkarmahavir.blogspot.com शकुन्तला प्रेस का पुस्तकालय http://laibreri.blogspot.com और (जिनपर कार्य चल रहा है,अगले दो महीने में पूरा होने की संभवाना है>>>शकुन्तला महिला कल्याण कोष http://shakuntala-mkk.blogspot.com मानव सेवा एकता मंच http://manawsewa.blogspot.com एवं चुनाव चिन्ह पर आधरित कैमरा-तीसरी आँख http://kaimra.blogspot.com) ब्लोगों का अवलोकन करें.

    कैमरा-तीसरी आँख वाला ब्लॉग एक-आध महीना लेट हो सकता लेकिन उस पर अपने लड़े दोनों चुनाव की प्रक्रिया और अनुभव डालने का प्रयास कर रहा हूँ.जिससे मार्च 2012 में दिल्ली नगर निगम के चुनाव होने है और मेरी दिली इच्छा है कि इस बार पहले ज्यादा निर्दलीय लोगों को चुनाव में खड़ा करने के लिए प्रेरित कर सकूँ. पिछली बार 11 लोगों की मदद की थी. जब आम-आदमी और अच्छे लोग राजनीती में नहीं आयेंगे. तब तक देश के बारें में अच्छा सोचना बेकार है. मेरे ब्लॉग से अगर लोगों को जानकारी मिल गई. तब शायद कुछ अन्य भी हौंसला दिखा सकें. मेरे अनुभव और संपत्ति की जानकारी देने से लोगों में एक नया संदेश भी जाएगा.

    ReplyDelete
  36. kuch bato ko vykat karne ke ley shabdo kii jarrorat nahi hoti achi post.

    ReplyDelete
  37. मैने लिखा है,
    मौसम की बहार को,सुदंरता और सिंगार को,
    पतझङ भी कुछ कहता है..
    जो मैने अभी लिखा नही ...!
    ..bahut hi sundar prastuti..

    ReplyDelete
  38. sunder abhivykti...kai baate hai jo bin kahe likhe bhee apne samjh hee jate hai........aur bahut kuch aisa bhee hai jo share kiya hee nahee ja sakta ...
    Aabhar

    ReplyDelete
  39. kuch bhav shabdo me vyakt nahin ho sakte wo samjhe ja sakte hain par samjhaye nahin ja sakte.......bahut sundar rachna mam

    ReplyDelete
  40. बहुत सुंदर शब्द ..सुन्दर भाव ...

    ReplyDelete
  41. बहुत खूब,बहुत बढिया
    वाह! वाह! वाह!

    आप लिखती ही रहिएगा.
    आपको पढ़ना अच्छा लगता है.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार.

    ReplyDelete
  42. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। हाइकु या नवगीत लिखे हों तो भेजियेगा।
    www,navgeet.blogspot.com

    www.haikudarpan.blogspot.com

    www.haikukosh.blogspot.com

    ReplyDelete
  43. बहुत खूब - सचमुच बहुत कुछ अनलिखा रह जाता है

    ReplyDelete
  44. बहुत सुन्दर, बहुत कोमल भावाभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  45. मैने लिखा है,
    तेरी मेरी उन बातो को,उन अहसासो और जज्बातो को,
    ख़ामोशी भी कुछ कहती थी...
    जो मैने अभी लिखा नही!
    rachna wakai sundar hai ,jo likha nahi gaya wo bhi ek roj likh jayega ,isi umeed ke saath jyoti dhero badhai deti hai .aane ke liye aabhari hoon .

    ReplyDelete
  46. Hi I really liked your blog.
    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner of our website and the content shared by different writers and poets.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on ojaswi_kaushal@catchmypost.com

    ReplyDelete
  47. Hi I really liked your blog.
    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner of our website and the content shared by different writers and poets.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on ojaswi_kaushal@catchmypost.com

    ReplyDelete
  48. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 04- 08 - 2011 को यहाँ भी है

    नयी पुरानी हल चल में आज- अपना अपना आनन्द -

    ReplyDelete
  49. बहुत कुछ हम नहीं कहते .....

    ReplyDelete
  50. behtareen kavita hai... ek saral aur samvedansheel abhivyakti ka saar hai...

    ReplyDelete
  51. achcha kiya sab kuch nahin likha.....kuch chzen sirf sahne aur bhogne ki hotin hain........

    ReplyDelete
  52. मेरे ब्लॉग पर भी आपका इंतजार है.
    समय निकाल कर दर्शन दीजियेगा.

    ReplyDelete
  53. एक गहरी कविता ...जिसमे जीवन के बहुत से रंग छलकते है .. आभार

    विजय

    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  54. कुछ रह ही जाता है जिसे लिखा नहीं जा सकता. सुंदर कवितात्मक अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  55. waah...kamaal ka ehsaas hai ye...ek lekhak ki gazab ki soch...


    http://teri-galatfahmi.blogspot.com/

    ReplyDelete
  56. बहुत कुछ है जीवन में जो अनकहा,अनलिखा और अनछुआ है...

    ReplyDelete
  57. bilkul sahi kha aapne ..kabhi kabhi bahut kuchh ankaha rha jata hai...

    ReplyDelete