Saturday, 16 July 2011

क्या तुम मिलोगे मुझे????

मैने सोच तो लिया था,                                      
ये मान भी लिया था,
कि तुम नही मिलोगे मुझे!
फिर भी ना जाने क्यू?
एक उम्मीद सी बँधी है...! 
दिल ने एक जिद सी की है तुम्हे पाने की....?
दिल जान कर भी अंजान होना चाहता है,
मैने तो अपना लिया था इस उदासी,
इस तन्हाई को,
पर मेरा दिल नही मानता किसी सच्चाई को?
मेरे प्यार ने फिर जिद की है तुम्हे मना लाने की.....!!
मै फिर खङी हूँ तुम्हारे सामने एक सवाल लेकर......

क्या तुम मिलोगे मुझे????

66 comments:

  1. मेरे प्यार ने फिर जिद की है तुम्हे मना लाने की.....!!
    मै फिर खङी हूँ तुम्हारे सामने एक सवाल लेकर....


    इस सवाल का हल जिसने भी खोजने की कोशिश की है हर बार उसके सामने एक नया सवाल खड़ा हुआ है .....लेकिन इन सवालों को हल करने का अपना आनंद है ....भावपूर्ण रचना ....आपका आभार

    ReplyDelete
  2. कभी कभी ये सवाल खुद बहुत से सवाल खड़े कर देता है.फ़िलहाल इस सवाल को वक्त के भरोसे छोड़ देना चाहिए.

    सादर

    ReplyDelete
  3. मेरे प्यार ने फिर जिद की है तुम्हे मना लाने की.....!!
    मै फिर खङी हूँ तुम्हारे सामने एक सवाल लेकर||

    जरुर ||
    जान है जहान है |
    समय मेहरबान है--
    आसपास ही आपकी जान है
    जरुर मिलेगा
    आखिर जाएगा कहाँ ??

    "आहुति" तो इधर ही है उसकी ||

    ReplyDelete
  4. दिल जान कर भी अंजान होना चाहता है,
    मैने तो अपना लिया था इस उदासी,
    इस तन्हाई को,
    पर मेरा दिल नही मानता किसी सच्चाई को?
    मेरे प्यार ने फिर जिद की है तुम्हे मना लाने की.....!!
    मै फिर खङी हूँ तुम्हारे सामने एक सवाल लेकर......

    Kitna kuchh kah diya hi in panktiyo ne...!
    Bas dil ko chhu gai..!
    Badhai.

    ReplyDelete
  5. मेरे प्यार ने फिर जिद की है तुम्हे मना लाने की.....!!
    मै फिर खङी हूँ तुम्हारे सामने एक सवाल लेकर......
    bahut hi bhavpurn shabd.....
    badhai.....

    ReplyDelete
  6. Zidd kar k bhi kismat badli jaati h.. mera naya naya tazurba kehta h... zidd thaane rahiye :)

    ReplyDelete
  7. इसको केवल हम एकतरफा प्यार कह सकते है जिसका कि कोई वजूद नहीं होता है, मुझे भी परछाई के पीछे भागने की आदत सी है जिस तरह से लोग ख़ुशी को एन्जॉय करते है मुझे उदासी को एन्जॉय करना पसंद है क्योंकि ख़ुशी तो हमसे कोई भी छीन सकता है,,, चुपके चुपके रात दिन आंसू बहाना याद है........

    ReplyDelete
  8. प्यार उससे करना चाहिए जो हमारी कदर करना जानता हो...और प्यार में जिद के लिए कोई स्थान नहीं होता है ....जिद करके किसी चीज को हासिल तो कर सकते है लेकिन वोह चीज हमारे किसी काम आने के बजाय हमको किसी गहरे अन्धकार में धकेल सकती है ....असली प्यार तो वो होता है जो एक दूसरे में समाकर दुनिया को एक दिखाई दे ...और ऐसा सबके साथ होता है कि खुशियाँ सामने होती है और तलाश दूसरी जगह होते है....जाने कहाँ गए वो दिन कहते थे तेरी याद में.......

    ReplyDelete
  9. मेरे प्यार ने फिर जिद की है तुम्हे मना लाने की.....!!
    मै फिर खङी हूँ तुम्हारे सामने एक सवाल लेकर...
    bahut bhavnatmak abhivyakti badhai.

    ReplyDelete
  10. zarur milenge jee....khoobsuurat racha ke saath...

    मेरी नई पोस्ट पे आपका स्वागत् है....
    http://raaz-o-niyaaz.blogspot.com/2011/07/blog-post.html

    ReplyDelete
  11. आदरणीय सुषमा आहुति जी,
    यथायोग्य अभिवादन् ।

    मेरे प्यार ने फिर जिद की है तुम्हे मना लाने की.....!!
    मै फिर खङी हूँ तुम्हारे सामने एक सवाल लेकर......
    क्या तुम मिलोगे मुझे????

    जी... मुश्किल जरूर है, नामुमकिन नहीं........, यकीन रखें।

    रविकुमार बाबुल
    ग्वालियर

    ReplyDelete
  12. मेरे प्यार ने फिर जिद की है तुम्हे मना लाने की.....!!
    मै फिर खङी हूँ तुम्हारे सामने एक सवाल लेकर......

    ReplyDelete
  13. मेरे प्यार ने फिर जिद की है तुम्हे मना लाने की.....!!
    मै फिर खङी हूँ तुम्हारे सामने एक सवाल लेकर......

    ReplyDelete
  14. प्रेमी ह्रदय की व्यथा को सटीक रूप में प्रस्तुत किया है आपने .बधाई

    ReplyDelete
  15. कल 18/07/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  16. प्रेमी मन ..हार कर भी हार नहीं मनाता ...
    sunder rachna ...

    ReplyDelete
  17. प्रेम रस में डूबी सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  18. bahut hi achi lagi apki ye kavita,,,,
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  19. सुन्दर कविता गहरे भावार्थ बधाई आहुति जी

    ReplyDelete
  20. ह्रदय की व्यथा को बहुत ही सुन्दर तरीके से प्रस्तुत किया है...

    ReplyDelete
  21. एहसासों को बखूबी लिखा है ..

    ReplyDelete
  22. सुषमा आहुति जी,
    नमस्कार !
    प्रेमी की व्यथा को सटीक रूप में प्रस्तुत किया है
    कमाल की लेखनी है आपकी लेखनी को नमन बधाई

    ReplyDelete
  23. बहुत ही खूबसूरती से व्‍यक्‍त प्रत्‍येक शब्‍द ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  24. मेरे प्यार ने फिर जिद की है तुम्हे मना लाने की.....!!
    मै फिर खङी हूँ तुम्हारे सामने एक सवाल लेकर......

    क्या तुम मिलोगे मुझे????jarur milenge kahaten hain naa ki kisi cheej ko dil se mango to poori kaynaat usko milaane main madad karati hai aapki aarjoo bhi jarur poori hogi ye hamari shubkamnayen hain.



    please visit my blog .thanks

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर रचना।
    आपको बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  26. खूबसूरत एहसासात को अपने में पिरोयी हुई रचना.... सुन्दर...
    सादर...

    ReplyDelete
  27. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति। आभार।

    ReplyDelete
  28. मेरे प्यार ने फिर जिद की है तुम्हे मना लाने की.....!!
    मै फिर खङी हूँ तुम्हारे सामने एक सवाल लेकर......
    क्या तुम मिलोगे मुझे????

    बहुत सुन्दर रचना
    कभी हमारे ब्लॉग पर आकर हमारी कमियों के बारे में हमें भी बताये
    vikasgarg23.blogspot.com

    ReplyDelete
  29. बहुत अच्छी भावुक रचना

    ReplyDelete
  30. प्यार ज़िद से नहीं होता..........वो तो बस हो जाता है और हमारा उसपर कोई काबू नहीं...... हाँ रूठे हुए को ज़रूर मनाना चाहिए|

    ReplyDelete
  31. waah bahut khubsuart sabal...bahut achha likhti hai aap...badhai

    ReplyDelete
  32. मन को गहरे तक छू गई एक-एक पंक्ति...

    ReplyDelete
  33. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  34. ज़रूर मिलेंगे..!!!

    बहुत सुंदर..!!!

    ReplyDelete
  35. एक उम्मीद सी बँधी है...
    यह उम्मीद बहुत खतरनाक होता है...
    और प्यारी भी... क्या कहने...

    ReplyDelete
  36. आपकी भावपूर्ण प्रस्तुति में सच्ची चाहत समाहित हैं
    मिलन तो हो कर ही रहेगा.
    अनुपम अभिव्यक्ति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.नई पोस्ट जारी की है.

    ReplyDelete
  37. सुन्दर भावपूर्ण रचना.......गहरे भावार्थ ......

    ReplyDelete
  38. सुन्दर प्रस्तुति..
    यही उम्मीद...यही विश्वास.... ही तो जिंदगी है

    ReplyDelete
  39. भावपूर्ण प्रस्तुति.
    One must be optimistic.

    ReplyDelete
  40. Kitna kuchh kah diya hi in chand panktiyo me...!
    dil ko chhu gayi aapki ye komal rachan...badhai

    ReplyDelete
  41. मन को छू गई...बहुत ही प्‍यारी कविता...

    ReplyDelete
  42. dil bhi ab jid pe ada hai kisi bacche ki tarah...ya tu...ya kuch bhi nahin...

    www.soul-n-heart.blogspot.com

    ReplyDelete
  43. बहुत अच्छी रचना है, बहुत बहुत साधुवाद

    ReplyDelete
  44. shushma ji ..anamika ji ki sadayein sunte hue aahuti tak aa pahunch..aapka profile padhaa.. to in panktiyon ko padhkar laga ki ahuti ka namkaran sarvath sarthak hai.. कल बिखर जाऊँगी हर पल मेँ शबनम की तरह, किरने चुन लेगी मुझे.... जग मुझे खोजता रह जायेगा.....!!! ..aapke guldaste ke bibidh phushpon ko dekha..chuninda phulon ka ye atsundar guldasta ..apne blog pe amantran aur badhai ke sath

    ReplyDelete
  45. दिल को छू लेने वाली रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  46. सुषमा आहुति जी बिलकुल नहीं तन्हाई निराशा घातक हैं उम्मीद का दामन थाम बढ़ जाइये ..
    मिलेगा मुकद्दर -सुन्दर रचना
    आभार आप का -बधाई भी
    भ्रमर ५

    फिर भी ना जाने क्यू?
    एक उम्मीद सी बँधी है...!
    दिल ने एक जिद सी की है तुम्हे पाने की....?

    ReplyDelete
  47. आन्तरिक भावों के सहज प्रवाहमय सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  48. वाह सुंदर रचना

    ReplyDelete
  49. प्यार की ज़िद ... दिल से मन तक कई सवाल लेकर हक़ीक़त से रू-ब-रू .. होकर लिखी गई रचना अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  50. मेरे प्यार ने फिर जिद की है तुम्हे मना लाने की.....!!
    मै फिर खङी हूँ तुम्हारे सामने एक सवाल लेकर......

    क्या तुम मिलोगे मुझे????

    ek bhavnatmak abhivyakti.... aapke blog ko follow kar raha hoon.....

    ReplyDelete
  51. दिल को छू जाने वाली भावमयी रचना. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  52. बहुत खूबसूरत भाव...

    ReplyDelete
  53. "मेरे प्यार ने फिर जिद की है तुम्हे मना लाने की.....!!"

    ReplyDelete
  54. maango jise muddaton se vo khud hi mil jata hai..
    to khade hokar.
    .
    .
    .
    .
    .sawal lekar kuch fayada nahi hoga........

    ReplyDelete
  55. Ahsason ko bahut sundar dhang se piroya hai aapne...
    bahut achhi rachana..
    haardik shubhkamnayen!

    ReplyDelete
  56. meri jindagi kee kahaani ko kavita mein dhaal diya aapne... (sorry a bad joke) par kavita sach mein khubsurat hai...

    ReplyDelete
  57. sunder rachana ....
    vaise kahavat hai
    janha chah vanha raah ....

    ReplyDelete
  58. ak behtareen rachna bahut gahri anubhuti ... vah .

    ReplyDelete
  59. बेहतरीन अभिव्यक्ति .......
    आप भी पधारो आपका स्वागत है ...
    pankajkrsah.blogspot.com

    ReplyDelete