Thursday, 14 July 2011

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्‍वरः । गुरु साक्षात्‌ परब्रह्म तस्मै श्रीगुरुवे नमः ॥

जिन्दगी की अँधेरी राहो पर 
आपने ज्ञान का दीप जलाया है 
जब भी हम हार कर निराश हुए है 
आपने हर मुश्किल में हमें जीना सिखाया है..

जब भटके है मंजिल से अपनी 
आप ने ही हमें सही राह दिखाई है 
अगर हम मंजिलो को पाने के लिए 
दिन रात दिये की तरह जले है 
आप ने भी अपने आपको हमारे साथ जलाया है.. 

बहुत-बहुत धन्यवाद आपका 
अपने अनुभवों का असीम ज्ञान दे कर 
हमें इस दुनिया के काबिल बनाया है.....!!

24 comments:

  1. ऊँ श्री गुरुवै नमः!

    ReplyDelete
  2. गुरु पूर्णिमा के शुभ अवसर पर चरण-वंदना ||

    ReplyDelete
  3. गुरू ही हमें सही रास्ता बताते है....
    गुरू को नमस्कार....

    ReplyDelete
  4. sahi kaha aapne
    guru se bada koi nahi

    ReplyDelete
  5. गुरु पूर्णिमा में आइए अपने गुरुओं क वन्दन करें!

    ReplyDelete
  6. Guru bin likhe na stay ko
    Guru bin mile na gyan...

    ReplyDelete
  7. guru srestha hai...bhut sundar likha hai aapne:)

    ReplyDelete
  8. Sahi kaha apne...!
    juru charano me naman....!!

    ReplyDelete
  9. गुरु पूर्णिमा के शुभ अवसर पर चरण-वंदना ||गुरु साक्षात्‌ परब्रह्म तस्मै श्रीगुरुवे नमः ॥

    ReplyDelete
  10. गुरु पूर्णिमा के पवन पर्व पर हार्दिक मंगलकामनाये !!

    ReplyDelete
  11. गुरु ब्रह्मा गुरुर विष्णु: गुरुर्देवो महेश्वर: !
    गुरु: साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्री गुरुवेनम: !!
    ....
    ध्यान मुलं गुरुर पदम, पूजा मुलं गुरुर मूर्ति !
    मन्त्र मुलं गुरुर वाक्यं, मोक्ष मुलं गुरुर कृपा !!

    ReplyDelete
  12. तस्मै श्री गुरवे नम:
    गुरु पूर्णिमा के पवन पर्व पर हार्दिक शुभकामनाये
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  13. गुरु की महत्ता को प्रदर्शित करती शानदार पोस्ट है .........बहुत खूब|

    ReplyDelete
  14. गुरु को समर्पित आपकी रचना सराहनीय है .बधाई

    ReplyDelete
  15. गुरुदेव को समर्पित सुन्दर पोस्ट ...........इस अवसर पर लिखी गई मेरी भी पोस्ट देखें

    ReplyDelete
  16. गुरु पूर्णिमा के पवन पर्व पर हार्दिक मंगलकामनाये !!

    ReplyDelete
  17. गुरु के महत्व को प्रतिपादित करती सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  18. गुरु पूर्णिमा के अवसर पर बहुत अच्छा लिखा है आपने.

    सादर

    ReplyDelete
  19. बहुत ही आकर्षक एवं प्रभावशाली प्रस्तुति i
    बस ऐसे ही चहकती-महकती रहो i
    ईश्वर शुभ करे i

    ReplyDelete