Friday, 1 July 2011

इक जिद है मेरी ....!!!

इक जिद है मेरी,                         
तुम्हे पाने की..                    
इक जिद है मेरी,
तुम्हे ना भुलाने की..
इक जिद है मेरी,
तुम्हारे साथ मंजिल तक जाने की..
इक जिद है मेरी,
हर पल तुम्हारा साथ देने की...
इक जिद है मेरी,
तुम्हे जीत लेने की..
इक जिद है मेरी,
तुमसे हार जाने की....!!!

45 comments:

  1. इक जिद है मेरी,
    तुमसे हार जाने की....!!!

    bahut khoobsoorat zid hai.
    shaandaar abhivyakti.

    krupya mere blog par bhee aayein.

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. इक जिद है मेरी,
    तुमसे हार जाने की....!!!
    Sahi kaha sushma ji ye bhi ek jid ho jati hai.bahut sundar bhavabhivyakti.

    ReplyDelete
  4. क्या कन्फ्यूजन है भाई--
    चित भी मेरी पट भी मेरी ||

    ReplyDelete
  5. तुम्हे जीत लेने की और तुमसे हार जाने की.......वल्लाह.......बहुत खूबसूरत......कभी भूले-भटके हमारे ब्लॉग पर भी आयें|

    ReplyDelete
  6. sushma ji aaj aapke blog ko hamne ye blog achchha laga par liya hai.aap bhi aayengi to hame achchha lagega.blog ka url hai[http://yeblogachchhalaga.blogspot.com]

    ReplyDelete
  7. ज़िद तुमको जीतने की और तुमसे हारने की ...बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  8. आदरणीय सुषमा आहुति जी,
    यथायोग्य अभिवादन् ।

    शानदार जिद्, खुद हार कर किसी को जीत लेने की जिद्। पाकर उसको, उसे ही भूलाने की जिद्, आपकी इस रचना में छिपी तमाम जिद् पूरी हों, कामना है ईश्वर से।

    रविकुमार बाबुल
    ग्वालियर

    ReplyDelete
  9. एक अदभुत रचना ..बहुत ही बढ़िया लिखा है !
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - सम्पूर्ण प्रेम...(Complete Love)

    ReplyDelete
  10. behatar rachana , jeet aur zid,sundar samanvay.
    S.N.Shukla

    ReplyDelete
  11. शानदार अभिव्यक्ति। प्यार में ऐसा ही होता है।

    ReplyDelete
  12. चलो जी ये जिद ही सही , जिन्दा दिली तो है ना .

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर....

    यही जिद ही तो सही मायनो में असली जिंदगी का जुनून है बिना इसके जिंदगी , जिंदगी कहाँ ?

    ReplyDelete
  14. मन को गहरे तक छू गई एक-एक पंक्ति...
    बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
  15. ये जिद ही सही..बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  16. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  17. इक जिद है मेरी,
    तुमसे हार जाने की....!!!

    ऐसी जिद किसी - किसी की होती है ..वर्ना सब तो जीत जाना चाहते हैं ..!

    ReplyDelete
  18. bhut khubsurat panktiya....

    ReplyDelete
  19. इक जिद है मेरी,
    तुम्हे जीत लेने की..
    इक जिद है मेरी,
    तुमसे हार जाने की....!!!



    ... कैसे थी वो जिद तुम्हे पाने की
    कैसी थी जिद वो तुम्हारे पास आने की
    कैसी थी वो उम्मीद तुझमे समां जाने की
    कैसे थी वो हसरत हर अक्स में तेरा निशा पाने की ......बहुत सुन्दर ,ख्याल उस की रूह में समां जाने का ,,,,,,आभार ,,,,,

    ReplyDelete
  20. इक जिद है मेरी,
    तुम्हे जीत लेने की..
    इक जिद है मेरी,
    तुमसे हार जाने की....!!!



    ... कैसे थी वो जिद तुम्हे पाने की
    कैसी थी जिद वो तुम्हारे पास आने की
    कैसी थी वो उम्मीद तुझमे समां जाने की
    कैसे थी वो हसरत हर अक्स में तेरा निशा पाने की ......बहुत सुन्दर ,ख्याल उस की रूह में समां जाने का ,,,,,,आभार ,,,,,

    ReplyDelete
  21. तुमसे हार जाने की एक जिद है मेरी ।
    (मोहब्बत में जो हार गया वो जीत गया ,)
    जीत के हार जाने की जिद है मेरी ।
    वैसे ....
    यहाँ जो भी आया गया हाथ मलके ,
    मोहब्बत की राहों में चलना संभल के ।
    कोमल भाव की ,हौसले की ,विल पावर की ,फसल है ये ...
    बहुत अच्छा बहावों का गुम्फन ..

    ReplyDelete
  22. जिद..खुबसूरत भाव-प्रवर रचना ..

    ReplyDelete
  23. इसे ही प्यार कहते है !

    ReplyDelete
  24. बहुत खूबसूरत रचना प्रस्तुत की है आपने!

    ReplyDelete
  25. zid achhi hai, meethi hai, pyaari hai....

    zaroor puri hogi....

    ReplyDelete
  26. यह जिद नहीं मुझे तो समर्पण सा लगता है,जिसमें अपनेपन की महक आ रही है.
    भावपूर्ण अभिव्यक्ति के लिए बधाई.

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  27. ye zid achchi hai shushma ji

    ReplyDelete
  28. बहुत खूब ... ये जिद्द ही है जो मुकाम तक पंहुचाती है ... अच्छी रचना है ..

    ReplyDelete
  29. bahut badiya.

    ise haar me bhee jeet hee chipee hai.

    ReplyDelete
  30. Kitnee pyaaree rachana hai! Tumharee zid kee hee tarah!

    ReplyDelete
  31. एक जिद है मेरी सकारात्मक बने रहें की ,
    आस का पल्लू थामे रहने की ,
    उनका बने रहने की ,
    वो माने न माने ...

    ReplyDelete
  32. क्या समर्पण है आपकी कविता में,
    आभार,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  33. कल 06/07/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी-पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  34. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  35. इक जिद है मेरी,
    तुम्हे जीत लेने की..
    इक जिद है मेरी,
    तुमसे हार जाने की....!!!

    वाह सुषमा जी क्या खूब जिद है आपकी ..भगवान आपकी हर जिद पूरी करें !

    ReplyDelete
  36. वाह बहुत ही सुन्दर
    रचा है आप ने
    क्या कहने ||
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/
    अगर आपको love everbody का यह प्रयास पसंद आया हो, तो कृपया फॉलोअर बन कर हमारा उत्साह अवश्य बढ़ाएँ।

    ReplyDelete
  37. आज फ़िर खेली है हमने लिंक्स के साथ छुपमछुपाई चर्चा में आज नई पुरानी हलचल

    ReplyDelete
  38. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete