Friday, 8 April 2011

जिँदगी तुझे सब कुछ बताना चाहती हूँ मै.....!!!


जिँदगी तुझे सब कुछ बताना चाहती हूँ मै,
 वो राज जिसका जिक्र सिर्फ मैने अपनी तन्हाई मेँ किया है,
 जिंदगी तुझे उस राज का हमराज बनाना चाहती हूँ मै.!
 वो सपने जो आँखोँ मेँ ही रह गये,
 वो अहसास जो मेरे दिल ने किसी के लिये महसूस किये थे,
 हर वो याद जो आज भी मेरी मुस्कान की वजह बनी हुई है,
 हर वो बात जो अब तक किसी से कही नही,
 जिँदगी तुझे वो सब कुछ बताना चाहती हूँ मै...!!
 अकेले तय किया बहुत लम्बा सफर,
 अब राह मिलती नही,
 आ गयी हूँ उस मोङ पर,
 कि अब जिँदगी तेरा हाथ पकङ कर मँजिल तक जाना चाहती हूँ मै..!!

..

22 comments:

  1. बहुत खूब,आहुति जी.

    ज़िन्दगी सब जानती है,
    वो राज़,जो अब तक छुपाए रखे थे,
    हर बात से वाकिफ है मेरी,
    फिर भी बता देता हूँ,
    दिल का बोझ कुछ हल्का हो,
    ज़िन्दगी तो चलती है मुसलसल
    मेरे साथ साथ
    अब चलूँगा मैं,
    ज़िन्दगी के साथ साथ

    ReplyDelete
  2. bahut bahut sundar....
    zindgi tera hath pakad kr manzil tak jana chahti hun.....

    ReplyDelete
  3. manjil tak pahunchati hui abhivyakti..khubsurat

    ReplyDelete
  4. बहुत पसंद आई आपकी यह कविता.

    ReplyDelete
  5. bhut bhut khubsurat..
    zindgi se koi raz kya chupayenge hum
    zindgi ne to kai raaj humse chupa rakhe hai..!!!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर लिखा है --लगता है मेरे दिल की बात आपने चुरा ली --धन्यवाद !इतना ही सुंदर लिखती रहे --

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी रचना है.

    ReplyDelete
  8. chaliye aapko jindgi ne rah to dikha di yahan to chourahe par khade hai , sundar rachna , badhai

    ReplyDelete
  9. कुछ तो है इस कविता में, जो मन को छू गयी।

    ReplyDelete
  10. जिंदगी से बातें करती हुई
    जिंदगी की कविता .... !!

    ReplyDelete
  11. दिल में उतर गए किया बात है बहुत अच्छा !

    ReplyDelete
  12. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 16-- 11 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज ...संभावनाओं के बीज

    ReplyDelete
  13. जीवन -दर्शन की बेहतर ढंग से काव्य में प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  14. panktiya man ko chhu gai....bahut sundar..

    ReplyDelete
  15. wahhh....
    bahut -bahut sundar kavita hai...

    ReplyDelete
  16. जिंदगी से बतियाने की ये अदा अच्छी है.

    ReplyDelete
  17. वो अहसास जो मेरे दिल ने किसी के लिये महसूस किये थे,
    हर वो याद जो आज भी मेरी मुस्कान की वजह बनी हुई है,
    हर वो बात जो अब तक किसी से कही नही,
    जिँदगी तुझे वो सब कुछ बताना चाहती हूँ मै...!!

    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ आत्मीयता के अहसास से भरपूर ! बाहर मन भाई आपकी यह रचना ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  18. बहुत प्याती रचना बधाई |
    आशा

    ReplyDelete