Thursday, 17 March 2011

ये होली तो बस हमारी हो...!!!


रंगो से भरी पिचकारी हो,
 ना मेरी हो ना तुम्हारी हो,
 ये होली तो बस हमारी हो...!

 ना रहने देगे किसी की भी जिंदगी बेरंग,
 रंगो के साथ खुशियो से भरी हर पिचकारी हो,
 ना मेरी हो ना तुम्हारी हो, 
 ये होली तो बस हमारी हो...!!

 इस तरह मिले रंगो मे रंग
 चेहरे ही नही रंगीन जिँदगी सारी हो...!!
ना मेरी हो ना तुम्हारी हो,
 ये होली तो बस हमारी हो.....!!!

20 comments:

  1. होली तो बस हमारी हो...happy holi

    ReplyDelete
  2. Na meri ho na tumhari ho
    holi to bas hmari ho..!!
    wise u a very happy holi

    ReplyDelete
  3. होली की सपरिवार रंगविरंगी शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  4. इस तरह मिले रंगो मे रंग,
    चेहरे ही नही रंगीन जिँदगी सारी हो...!!
    बहुत सुन्दर शब्द चुने आपने कविताओं के लिए..

    ReplyDelete
  5. "रंगो से भरी पिचकारी हो,
    ना मेरी हो ना तुम्हारी हो,
    ये होली तो बस हमारी हो...!"

    मनमोहक पर बहुत सुंदर रचना - शुभ आशीष

    ReplyDelete
  6. मनमोहक ब्लॉग पर बहुत सुंदर रचना - शुभ आशीष

    ReplyDelete
  7. रंगो से भरी पिचकारी हो,
    ना मेरी हो ना तुम्हारी हो,
    ये होली तो बस हमारी हो...!

    आपने खूबसूरत पैगाम दिया है होली के अवसर पर.
    आपको होली की शुभकामनायें.
    आपकी रचनाएँ इसी तरह तन मन रंगती रहे.
    सलाम

    ReplyDelete
  8. mere pyari si chhoti bahan ko uski didi k araf se holi k dher sare shubhkamnaye .
    ghar aao na time nikal kar ..

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर रंग भी ! उमंग भी ! होली है hhhhhhhhhh

    ReplyDelete
  10. आपने खूबसूरत पैगाम दिया है होली के अवसर पर|
    आपको होली की शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  11. आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    सादर

    ReplyDelete
  12. फुर्सत मिले तो 'आदत.. मुस्कुराने की' पर आकर नयी पोस्ट ज़रूर पढ़े .........धन्यवाद |
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com/

    ReplyDelete
  13. ना मेरी हो ना तुम्हारी हो,
    ये होली तो बस हमारी हो.....!!!
    बहुत सुंदर रंग भी , पिचकारी की उमंग भी,
    बहुत सुन्दर कविता !!!

    ReplyDelete
  14. आपकी ये रचना कल 6 - 3 - 2012 नई-पुरानी हलचल पर पोस्ट की जा रही है .... ! आपके सुझाव का इन्तजार रहेगा .... !!

    ReplyDelete
  15. आपकी ये रचना कल 6 - 3 - 2012 नई-पुरानी हलचल पर पोस्ट की जा रही है .... ! आपके सुझाव का इन्तजार रहेगा .... !!

    ReplyDelete
  16. ना मेरी हो ना तुम्हारी हो,
    ये होली तो बस हमारी हो.....!!!
    सच में .....सब मिलकर खुशियाँ बाटें...द्वेष बैर को भूलकर ....तो सच में यह त्यौहार प्रेम का पर्याय बन जाए ...चलो होली साथ मनाएं
    होली की ढेर सारी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  17. ना मेरी हो ना तुम्हारी हो,
    ये होली तो बस हमारी हो.....!!!

    सच में .....सब मिलकर खुशियाँ बाटें...द्वेष बैर को भूलकर ....तो सच में यह त्यौहार प्रेम का पर्याय बन जाए ...चलो होली साथ मनाएं
    होली की ढेर सारी शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  18. ना मेरी हो ना तुम्हारी हो,
    ये होली तो बस हमारी हो...!!

    चलो मिल कर मनाएं....
    आपकी होली शुभ हो...

    ReplyDelete
  19. बहुत -बहुत -बहुत सुन्दर रचना
    होली पर्व कि आपको हार्दिक शुभकामनाएँ ....
    :-)

    ReplyDelete