Saturday, 5 March 2011

कश्ती सहारा चाहती है....!!!


कुछ लम्हे ऐसे होते है जो जीवन बन जाते है,
 एक मीठा सा अहसास जगा जाते है...!

 अकेलेपन मे चुपके से दस्तक दे कर एक मीठा सा अहसास जगा जाते है,
 किसी कि बाते इतनी प्यारी लगती है कि मन के किसी कोने मे बस जाती है,
 फिर चुपके चुपके इस दिल को गुदगुदाती है,
मुस्कराता एक चहेरा और थामने को बढे हाथ नजर आते है,


 फिर कभी-कभी  मन मे ना जाने क्यू एक तुफान सा उठ जाता है..!!

मन की नैया सवालो के मझँधार मे फंस जाती है,
 पर किसी की आहट दिल को सुकून दे जाती है,
 मझँधार मे फंसी नाव को उसका साहिल दिखा जाती है,
 इस मन के कोरे कागज को एक लहर यू ही भिगो कर चली जाती है,
 कि इस कोरे कागज पर एक धुधँली सी तस्वीर नजर आती है,
 जिसमे इस नाव को उसका साहिल नजर आता है...!!!

 तब नाव को महसूस होता है यही तो है वो किनारा जिसकी उसे तलाश थी,
 पर नाव का मन घबराता है यह सोच कर कि कही यह तस्वीर ओझल ना हो जाये,
 जीवन की उठक-पटक मे उसका साहिल ना खो जाये,
 दूनिया का दस्तूर है बहूत कुछ पाकर भी और पाने की चाहत रह जाती है,
 डगमगाती हुई कश्ती किसी की बाहोँ का सहारा चाहती है...!!!!

12 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. मन की नैया सवालो के मझँधार मे फंस जाती है,
    पर किसी की आहट दिल को सुकून दे जाती है,
    मझँधार मे फंसी नाव को उसका साहिल दिखा जाती है,

    सुषमा जी
    आपकी रचनात्मकता वर्तमान व्यक्ति को जीवन के सार्थक और जीवंत पक्ष से अवगत करवाती है , आपकी तीनो रचनाओं में जीवन के विविध भावों का चित्रण हुआ है ....आप अपनी रचनात्मकता से ब्लॉग जगत को समृद्ध करेंगी यही आशा है ....आपका ब्लॉग जगत में हार्दिक स्वागत है

    ReplyDelete
  3. कृपया वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें ...टिप्पणीकर्ता को सरलता होगी ...
    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिए
    डैशबोर्ड > सेटिंग्स > कमेंट्स > वर्ड वेरिफिकेशन को नो NO करें ..सेव करें ..बस हो गया .

    ReplyDelete
  4. बहुत खूबसूरत लिखा आपने
    आपका कानपुर ब्लागर्स असोसिएसन पर स्वागत है
    http://kanpurbloggers.blogspot.com
    यह मंच सभी चिट्ठाकारों का स्वागत करता है ।

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत खूबसूरत खूबसूरत खूबसूरत खूबसूरत

    ReplyDelete
  6. सार्थक और भावप्रवण रचना।

    ReplyDelete
  7. कल 14/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. ह्रदय के सीधे ....सच्चे उदगार ....
    बहुत सुंदर रचना ...

    ReplyDelete
  9. सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  10. खूबसूरती से उकेरे हैं जज़्बात

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्दर और बढ़िया लिखा है अपने..
    आपकी सभी रचनाये बहुत ही बहतरीन ,आकर्षक ,मनमोहक और दिल को छू लेनेवाली होती है....
    बहुत ही बढ़िया,,,:-)

    ReplyDelete